खैरा : 'सतत जीवन दर्शन में योग की भूमिका' विषय पर संगोष्ठी आयोजित - gidhaur.com : Gidhaur - गिद्धौर - Gidhaur News - Bihar - Jamui - जमुई - Jamui Samachar - जमुई समाचार

Breaking

A venture of Aryavarta Media

Post Top Ad

Post Top Ad

Friday, 24 September 2021

खैरा : 'सतत जीवन दर्शन में योग की भूमिका' विषय पर संगोष्ठी आयोजित

खैरा/जमुई (Khaira/Jamui) : स्थानीय प्लस टू उच्च विद्यालय खैरा परिसर में बुधवार को दर्शनशास्त्र विभाग के तत्वावधान में 'सतत जीवन दर्शन में योग की भूमिका' विषय पर पर एक दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया. कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य चंद्रमोहन रविदास ने किया.

इस दौरान अलग-अलग वक्ताओं ने कहा की योग दर्शन की तुलना दर्पण के समान है, जो जीवन के लिए काफी उपयोगी है. हमने कहा कि जीवन के लिए योग काफी महत्वपूर्ण है, इससे इंसान अपने चरम लक्ष्य मोक्ष की प्राप्ति कर सकता है. योग एक तरह की साधना है जो इस पूरे जीवन काल में इंसान को अलौकिक क्षमताओं की तरफ लेकर जाता है.

डॉ. शैलेंद्र ने कहा कि योग दर्शन में अष्टांग योग को अपनाकर लोग मोक्ष की प्राप्ति भी कर सकते हैं. जीवन यात्रा में योग की काफी महती भूमिका है. इससे पहले दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया गया.

मौके पर नीरज कुमार सिंह, प्रिया कुमारी, संजीव कुमार बनर्जी, मो. मुस्लिम अंसारी, शंभू राम, मिथिलेश पांडेय, अंजनी कुमारी महतो, प्रिया कुमारी सिंह, राजेश रंजन, मृत्युंजय कुमार, नितीश कुमार, सुनील कुमार मिश्रा, विजय कुमार पांडेय, रिंकू कुमारी सहित विद्यालय के कई शिक्षक व छात्र मौजूद रहे.

Post Top Ad