Breaking News

गिद्धौर : रतनपुर हाई स्कूल में हो रहा छात्रों का आर्थिक दोहन, अवैध वसूली से प्रबन्धन बेसुध

 



Gidhaur/Ratanpur (धनंजय कुमार 'आमोद') :-


एक ओर जहां बिहार सरकार ग्रामीण इलाकों के छात्र-छात्राओं को शिक्षा के मुख्यधारा से जोड़ने की कवायद में पंचायत स्तर तक हाइस्कूलों की स्थापना कर दी है। तो वहीं, दूसरी ओर सरकारी महकमे के कर्मी ही गरीब नौनिहालों का आर्थिक दोहन करने में जुटे हैं। मामला गिद्धौर प्रखण्ड क्षेत्र के रतनपुर से उद्धत है, जहां अखिलेश्वर हाई स्कूल (Akhileshwar High School Ratanpur) में भराये जा रहे नामांकन व परीक्षा फॉर्म में शिक्षकों की मनमानी चरम पर है। आलम यह है कि, शुल्क प्राप्ति रसीद से ₹100-150 अधिक प्रति अभ्यार्थी की वसूली हो रही है, इससे विद्यालय प्रबंधन बेसुध है। 

मंगलवार को gidhaur.com के पास ये वाकया सामने आया जिसमें फॉर्म भरने के आड़ में विद्यालय प्रबंधन की हो रही गाढ़ी कमाई की नब्ज पकड़ ली। दरअसल, मैट्रिक व इंटर की वार्षिक परीक्षा को लेकर विद्यालय में छात्र छात्राओं का फार्म भरवाया जा रहा है। 


[ आक्रोशित छात्र-छात्राओं ने खोली प्रबन्धन की पोल ]


गिद्धौर प्रखंड के रतनपुर पंचायत अंतर्गत प्लस टू उच्च विद्यालय रतनपुर में मैट्रिक व इंटर के होने वाले परीक्षा के फ़ार्म भरने के नाम पर सैंकड़ों विद्यालयी छात्र छात्राओं से सौ रुपये से दो सौ रुपये तक अवैध राशि की उगाही की जा रही है। फ़ार्म भरने के नाम पर विद्यालय प्रबंधन द्वारा की जा रही अवैध राशि वसूली से त्रस्त प्लस टू उच्च विद्यालय रतनपुर के छात्र नीतीश कुमार, किट्टू कुमार, मंटू कुमार,गुड्डू कुमार, निरंजन कुमार, नेहा कुमारी, राहुल कुमार, सहित दर्जनों छात्र छात्राओं ने विद्यालय प्रबंधन द्वारा लिए जा रहे अवैध राशि की पोल खोल दी। बच्चे बताते हैं कि, फाइनल इंटरमीडिएट फार्म के रसीद पर ₹ 2170 /- अंकित है जबकि इज़के एवज में बच्चों से 2200- 2500 रुपये तक मनमाने ढंग से लिए जा रहे हैं। विद्यालयी सूत्रों की माने तो कुछ दिन बाद विद्यालय प्रभारी प्रधानाध्यापक सेवा निवृत्त होने जा रहे हैं, उनके विदाई समारोह में किए जाने वाले कार्यक्रम में इस संग्रहित राशि को खर्च किया जाएग। 


[ प्राचार्य हैं मामले से अनभिज्ञ, विद्यालय प्रबन्धन की भर रही झोली ] 


यहां यह बता दें, कि अवैध राशि वसूली को लेकर विद्यालय सुर्खियों में रहा है। 

वहीं, gidhaur.com के संवाददाता ने अवैध राशि वसूली मामले पर विद्यालय प्राचार्य ध्रुव कु पांडेय से उनका पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने पूरे प्रकरण से खुद को अनभिज्ञ बताया। उन्होंने संवाददाता को नैतिकता का पाठ पढ़ाते हुए मामले को ओं स्पॉट निपट लेने की बात कही। दूरभाष पर हुई बातचीत में विद्यालय प्रधान ने मामले को सेटल करने के लिए व्यक्तिगत मिल लेने की भी हिदायत दी। 

इधर, प्रभार में चल रहे जिला शिक्षा पदाधिकारी सर्वेश कुमार ने पूछे जाने पर बताया कि अधिक राशि लेना गलत है माध्यमिक शिक्षा से मामले की जानकारी ले इसपर कार्रवाई के लिए बोल दिया जाएगा। 

गौरतलब है कि फरवरी माह में चल रहे मैट्रिक परीक्षा के दौरान एक छात्र ने विद्यालय प्राचार्य पर उत्पीड़न का आरोप भी लगाया था, जिसके मामले पर विभाग में विद्यालय प्रधान अपनी बेगुनाही साबित करने में एड़ी चोटी का जोर लगाया था। 


Edited by : Abhishek Kr. Jha


#Gidhaur, #Education, #GidhaurDotCom