Breaking News

गिद्धौर : कन्या मध्य विद्यालय में हंगामे का भेंट चढ़ा प्रबन्धन समिति चुनाव, कोविड प्रोटोकॉल की भी हुई अनदेखी

【न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】 :-

विद्यालय में समुदाय की सहभागिता व स्वामित्व बढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग द्वारा विद्यालय प्रबंधन समिति के गठन का प्रावधान रखा गया है, पर इन दिनों गिद्धौर के कुछ विद्यालयों में प्रबन्धन समिति का चुनाव कहीं कागजी औपचारिकता तो कहीं हंगामे का शिकार हो रहा है।
सोमवार को गिद्धौर के कन्या मध्य विद्यालय में होने वाले प्रबन्धन समिति का चुनाव हंगामे की भेंट चढ़ गयी। चुनाव को कागजों पर सलटाने के लिए जहां प्रबन्धन के उस्ताद भीड़े थे वहीं, इसका विरोध जताकर नियमानुसार चुनाव कराने के लिए कई सदस्य अड़ गए। बताया जाता है कि, सोमवार को सदस्य और सचिव चुनाव के लिए विद्यालय परिसर में आम बैठक की गई थी, जिसमे सभी वर्ग से दो -दो सदस्य का चुनाव करना था, लेकिन सचिव पद के चुनाव की बात छेड़ दी गई जहां दावेदारी से अधिक लोगों का पर्चा शामिल होता देख सदस्य पद के दावेदार व उपस्थित अभिभावकों ने हंगामा शुरू कर दिया, देखते ही देखते मामले ने विवाद का रूप ले लिया और अंततः विद्यालय प्रबंधन समिति के चुनाव को तत्क्षण रद्द करना पड़ा। बताया यह भी जाता है कि उप मुखिया के अध्यक्षता में नियमावली को ताख पर विद्यालय प्रबंधन चुनाव को संपन्न कराने के कई जुगाड़ लगाये जा रहे थे, पर हंगामे के बीच चुनाव को रद्द कर दिया गया।
वहीँ, चुनाव के इस सभा में कोरोना प्रोटोकॉल की भी जमकर धज्जियां उड़ाई गई। आलम यह था कि खचाखच भरे भीड़ में कर्मी और दावेदार बिना मास्क के नजर आए। कोविड को लेकर स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन द्वारा जारी एडवाइजरी ने इस हंगामे के बीच दम तोड़ दिया। 
आपको बता दें, निःशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम, 2009 की धारा-21 एवं राज्य नियम, 2011 के नियम 3 एवं 4 के अनुसार विद्यालय प्रबंधन समिति के गठन का प्रस्ताव रखा गया था, पर विभागीय अधिकारियों के अनदेखी और कोविड काल में लापरवाही के बीच यह चुनाव महज हंगामे और विवाद के बीच सिमटकर रह गया है, जिसकी सुधि लेने वाला कोई नहीं।