Header Ad

header ads

जमुई : अवैध नर्सिंग होम और निजी क्लिनिक पर गिरेगी विभागीय गाज, सीएस ने किया आगाह

 जमुई/Jamui (न्यूज़ डेस्क) :-  स्वास्थ्य विभाग इस बार नर्सिंग होम और निजी क्लिनिक के खिलाफ ठोस कदन उठाने जा रही है, जिससे  जिले में संचालित हो रहे अवैध नर्सिंग होम और प्राइवेट क्लिनिक पर स्वास्थ्य विभाग की गाज गिर सकती है । इसके लिए सिविल सर्जन डॉ. विजयेंद्र सत्यार्थी ने दुबारा पत्र जारी कर प्राइवेट क्लिनिक के संचालकों को आगाह किया है। 


बता दें कि, बीते 24 नंवबर को सिविल सर्जन डॉ. विजयेंद्र सत्यर्थी ने जिले में चल रहे बिना लाइसेंस के नर्सिंग होम और प्राइवेट क्लिनिक के संचालकों को एक सप्ताह के अंदर अपना सभी कागजात के साथ लाइसेंस बनाने का निर्देश दिया था। सीएस के निर्देश पर कई नर्सिंग होम और प्राइवेट क्लिनिक के संचालकों ने सीएस कार्यालय में अपना कागजात भी जमा कर दिया है। लेकिन कई क्लिनिक के संचालकों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया जिस कारण सीएस ने शनिवार को एक बार फिर वैसे क्लिनिक के संचालकों को पत्र जारी कर लाइसेंस बनवाने का निर्देश दिया है। 

[ लाइसेंस के लिए इन स्वास्थ्य संस्थानों को दी गयी है मोहलत ] :-

 जिले के 12 प्राइवेट क्लिनिक के संचालकों ने अभी तक अपना कागजात नहीं जमा किया है। सीएस डॉ. सत्यार्थी ने उन्हें अगले सप्ताह तक की मोहलत दी है। इन स्वास्थ्य संस्थानों की फ़ेहरिस्त तो लम्बी है, पर विभागीय फ़रमान का इनपर कोई असर पड़ता नहीं दिख रहा। इन फ़ेहरिस्त में जमुई के 3, चकाई के 4, झाझा के 3, व सिकन्दरा के दो स्वास्थ्य संगठनों के नाम निहित हैं। 

 1).  डॉ. रंजीत रावत , जमुई- लखीसराय रोड

2).  कोकिल्या हेल्थ केयर , सरकारी बस डेपो, जमुई, 

3).  डॉ. अशोक कुमार गुप्ता , नारडीह, जमुई, 

4). डॉ. मनोज झा झाझा, 

5). डॉ. आबिद हुसैन झाझा,

6).  डॉ. तस्लीम अहमद, झाझा

7).  मां वैष्णवी क्लिनिक ,चकाई

8). मां रूपमणि क्लिनिक ,चकाई

9). सरदार क्लिनिक, चकाई

10). आरआर मेमोरिल क्लिनिक, चकाई

11).   डॉ. इम्तियाज भारती, सिकंदरा बाजार, 

12). मां दुर्गा क्लिनिक , पुरारी चौक सिकंदरा 


सम्बंधित खबर यहां पढ़ें -: जमुई जिले के इन 16 नर्सिंग होम व क्लिनिक पर लटक सकता है ताला

सीएस डॉ. विजयेंद्र सत्यार्थी ने उक्त सभी को लाइसेंस बनवाने का सख्त निर्देश देते हुए कहा कि अगर एक सप्ताह के अंदर क्लिनिक के संचालक अपना कागजात के साथ क्लिनिक का लाइसेंस बनवाने नहीं आते है तो वैसे क्लिनिक पर सख्त कार्रवाई करते हुए उसे बंद किया जाएगा।