बड़ी खबरें

गिद्धौर : नियोजित शिक्षकों ने काली पट्टी बांध जताया विरोध, एनडीए को वोट नहीं देने का संकल्प

गिद्धौर/जमुई (Gidhaur/Jamui) : बिहार सरकार (Bihar Government) के खिलाफ तल्ख हुए नियोजित शिक्षकों के तेवर ने शनिवार को एक अलग ही रूख इख़्तियार करते हुए काली पट्टी बांधकर अपने घरों में परिवार के साथ वेदना प्रदर्शित की और शिक्षक दिवस को अपमान दिवस के रूप में मनाया।
विगत डेढ़ दशक से सूबे के चार लाख नियोजित शिक्षकों को अपमानित करने और सेवाशर्त के नाम पर धोखा देने के विरोध में बिहार पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष आनंद कौशल सिंह (Anand Kaushal Singh) ने बिहार सरकार पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि सालों भर अपनी हक की मांग के लिए अपमानित होने वाले 4 लाख शिक्षको को एक दिन सम्मान देना असहज है। इससे क्षुब्ध होकर शिक्षकों ने काली पट्टी बांधकर एनडीए को अपना वोट नहीं देने हेतु संकल्प अभियान छेड़ दी है।
प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि शीघ्र यदि चार लाख शिक्षकों की 07 सूत्री माँग पूरी नहीं कि गई तो 12 सितंबर को बिहार के सभी प्रखंड मुख्यालय पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) का अर्थी जुलूस और 19 सितंबर को मशाल जुलूस निकाला जायेगा। उन्होंने सभी शिक्षकों को शांति पूर्वक महामारी कानून का पालन करते हुए चरणबद्ध आंदोलन में भाग लेने का निर्देश दिया है। मौके पर कोषाध्यक्ष राजीव वर्णवाल, प्रखण्ड अध्यक्ष वशिष्ठ यादव, ब्रजेश सिंह, प्रेमनाथ केशरी, सीतेश कुमार आदि उपस्थित रहे।

No comments