बड़ी खबरें

जमुई : अल्ट्रासाउंड सेंटर सहित निजी क्लीनिक में छापेमारी कर SDO ने किया सील, मचा हड़कंप

 


Jamui News (जमुई) :- शहर के पुस्तकालय समीप स्थित अमृत हॉस्पिटल व अपना अल्ट्रासाउंड सेंटर पर गुरुवार की अहले सुबह सदर एसडीओ प्रतिभा रानी के नेतृत्व में छापेमारी की गई। इसमें सदर अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. सैय्यद नौशाद अहमद भी एसडीओ के साथ नजर आएं।  इस दौरान शहर के विभिन्न निजी क्लीनिक व नर्सिंग होम में हलचल मची रही। तकरीबन 3 घंटे तक चली छापेमारी में एसडीओ प्रतिभा रानी ने ‘अपना अल्ट्रासाउंड’ सेंटर का ताला तोड़वा कर मशीन को जब्त करते हुए सेंटर को सील कर दिया। इसके अलावा सेंटर में मौजूद लिक्विड और पंजी रजिस्टर सहित विभिन्न कागज़ात को भी जब्त किया गया है। उसके बाद अमृत हॉस्पिटल में ड्यूटी पर तैनात महिला चिकित्सक डॉ. शक्ति सुमन को भी पूछ-ताछ के लिए थाना ले जाया गया। 


 बता दें कि अमृत हॉस्पिटल और अपना अल्ट्रासाउंड सेंटर अवैध रूप से संचालित होने और लिंग परीक्षण करने के आरोप की गुप्त सूचना मिलने के बाद छापेमारी की गई थी। हालांकि एसडीओ प्रतिभा रानी ने बताया कि छापेमारी के दौरान क्लिनिक में कई तरह की अनियमितता पाई गई थी। हॉस्पिटल बोर्ड पर नाम किसी और डॉक्टर का नाम मिला जबकि क्लिनिक के प्रिस्क्रिप्शन में कोई और डॉक्टर का नाम दिखा और ड्यूटी पर कोई और महिला डॉक्टर थी। सर्टिफिकेट की कॉपी सेंटर पर नहीं लगी हुई थी। 


- साजिश के तहत किया गया है सील -


अमृत हॉस्पिटल के संचालक पिंकू पांडेय और मृत्युंजय पांडेय ने बताया कि अल्ट्रासाउंड अभी चालू नहीं हुई थी। शुक्रवार को अल्ट्रासाउंड सेंटर का उद्घाटन होने वाला था। रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई है। लिंग परीक्षण का लगाया गया आरोप झूठा है। विरोधियों द्वारा फंसाने की साजिश रची गई है।


- कहते हैं चिकित्सक - 


अमृत हॉस्पिटल की महिला चिकित्सक डॉ. सत्ती सुमन ने बताया कि मनमाने तरीके से गलत सूचना पर मुझे बिना कारण के जबरन थाना लाया गया है। मोबाइल पर सारे कागज़ात दिखाने के बावजूद मुझे प्रताड़ित किया गया है। थाना में मूल कागज़ात देखने के करीब दो घंटे के बाद छोड़ा गया है। उन्होंने बताया कि वे ड्यूटी डॉक्टर के रूप में रात में कार्य करती है।


- सिविल सर्जन बोले : 3 सितंबर को हुआ था रजिस्ट्रेशन -


सिविल सर्जन डॉ. विजयेंद्र सत्यार्थी ने बताया कि अपना अल्ट्रासाउंड सेंटर का रजिस्ट्रेशन 3 सितंबर को हो चुका है। लेकिन पदाधिकारी द्वारा किस वजह से छापेमारी कर सेंटर को सील कर अल्ट्रासाउंड मशीन जब्त किया गया है मुझे पता नहीं है।  


कहती है एसडीओ -


पत्रकारों को संबोधित करते हुए एसडीओ प्रतिभा रानी ने कहा कि सूचना के बाद छापेमारी की गई थी। मौके पर डॉक्टर की डिग्री और अल्ट्रासाउंड से संबंधित कागज़ात नहीं दिखाए गए थे। वैसे अल्ट्रासाउंड में इस्तेमाल होने वाले लिक्विड भी बरामद किया गया था। जांच के बाद ही पता चल पाएगा कि अल्ट्रासाउंड मशीन चालू थी या नहीं। फिलहाल कागज़ात की जांच के बाद ही जब्त सामानों को छोड़ा जाएगा।

No comments