बड़ी खबरें

गिद्धौर : निवर्तमान BDO के विदाई समारोह में रसोईयों ने किया हंगामा

 

 

【 News Desk | अभिषेक कुमार झा】:- क्वेरेंटिंन सेंटर बन्द होने के बाद भी अपने वेतन से वंचित प्रखंड क्षेत्र के दर्जनों रसोइयों ने एकत्रित  होकर गिद्धौर प्रखंड कार्यालय परिसर पहुंची और अपने बकायेे वेतन की मांग करने को लेकर जमकर हंगामा किया। मौका था निवर्तमान बीडीओ गोपाल कृष्णन के विदाई समारोह का, जब कार्यक्रम के समापनोपरान्त अचानक बीडीओ व सीओ के खिलाफ रसोइया दीदियों ने नारेबाजी शुरू कर दी। 




[ अधिकारियों के टालमटोल से नहीं हो सका रसोईयों का भुगतान ]



इस दौरान रसोईया दीदी ने आक्रोशित शब्द में बताया कि कोरोना काल मे उन्होंने 350 रुपये प्रतिदिन के दर पर 3 माह तक क्वेरेन्टिन सेन्टर में अपनी सेवा दी, सेंटर बन्द होने के बाद भी उनके बकाये वेतन की भुगतान में अधिकारी बैकफुट पर आ गये हैं। वर्तमान समय मे काफी मुश्किल से इन गरीब रसोई दीदियों का गुजारा हो रहा है, और अफ़सर लोग वेतन देने के बदले टालमटोल कर रहे हैं।



[ नवपदस्थापित बीडीओ के तेवर में दिखी तल्खी ]



इधर, रसोइयों के उग्र प्रदर्शन को देखते हुए वर्तमान बीडीओ राघवेन्द्र त्रिपाठी ने अपने तल्ख तेवर से सभी पर एफआईआर करने की बात कही। वहीं सम्बन्धित अधिकारियों को भी फटकारा। काफी मशक्कत के बाद गिद्धौर थानाध्यक्ष आशीष कुमार व मौरा मुखिया कांता प्रसाद सिंह के समझाने बुझाने व सकारात्मक आश्वाशन के बाद उग्र हुए रसोईया दीदियों को शांत कराया गया। 


 [ गिद्धौर प्रखंड कार्यालय से शुद्धि पत्र जारी कर दो पाली में नामित किये गए थे 14 रसोइया ]


बता दें, प्रखण्ड कार्यालय गिद्धौर से 27/05/2020 को तत्कालीन सीओ व बीडीओ के हस्ताक्षर में निर्गत ज्ञापांक 278 के माध्यम से भोजन व पानी कोषांग गठित कर दो पालियों में उ.म.वि. तथा प्रा.विद्यालय से चयनित 14 रसोईयो को नामित किया गया था। अब आलम यह कि अधिकारियों की टालमटोल से निम्नवर्गीय परिवार से आने वाले उक्त दर्जनों महिला रसोइया की आर्थिक स्थिति चर्माराने लगी है।


 

No comments