बड़ी खबरें

अभिनेता सुशांत की मौत की CBI जांच कराने की मांग, सभी क्षत्रिय संगठनों ने भरी हुंकार



● "जस्टिस फॉर सुशांत (बिहार)" के बैनर तले  सीबीआई जांच की मांग को लेकर पटना सहित पूरे बिहार में शांतिपूर्ण मार्च आयोजित...

● "जस्टिस फॉर सुशांत" ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सीबीआई से जांच कराने संबंधित मांग-पत्र राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को भेजा...


पटना | अनूप नारायण : रविवार को "जस्टिस फॉर सुशांत (बिहार)" के बैनर तले दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant singh rajput) की रहस्यमय मौत की सीबीआई से जांच कराने की मांग को लेकर राजधानी पटना (Patna) सहित बिहार के सभी प्रमंडल, जिला और प्रखंड मुख्यालयों में शांतिपूर्ण मार्च व प्रदर्शन आयोजित किया गया। बिहार में 250 से ज्यादा स्थानों पर तय समय पर एक साथ हीं करनी सेना के नेतृत्व में सभी क्षत्रिय संगठन दिवंगत अभिनेता के फैन्स और युवाओं ने शांतिपूर्ण तरीके से मार्च आयोजित कर सीबीआई जांच की मांग को लेकर हुंकार भरी। "जस्टिस फॉर सुशांत" ने बिहारी सपूत व बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमय मौत की सीबीआई से जांच कराए जाने संबंधित मांग पत्र भी देश के महामहिम राष्ट्रपति (President), प्रधानमंत्री (Prime minister), गृहमंत्री (Home minister), महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, बिहार के राज्यपाल व मुख्यमंत्री को भेजा।
          "जस्टिस फॉर सुशांत (बिहार)" के बैनर तले पटना में आयोजित मार्च का नेतृत्व संयुक्त रूप से अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के डॉ विजय राज सिंह ,नीरज  सिंह  करनी सेना सुनील सिंह , बी के सिंह , धीरेंद्र कुमार सिंह  भारतीय जनता पार्टी से  शैलेश सिंह  औऱ बरुन सिंह राजपा के युवा प्रदेश अध्यछ संजय सिंह और राजवीर सिंह गुजर ने किया । मार्च में हज़ारो युवाओं ने नारे लिखी हुई तख्तियां को हाथों में लेकर प्रदर्शन किया। नारों में जिसकी प्रमुखता रही वो था-
    "एक दिन, एक समय,
     एक साथ, भरो हुंकार,
      जस्टिस फॉर सुशांत।
 लगा रहे हैं सड़कों पर दहाड़,
     झुक जाएगी सरकार।

      #No CBI #No Vote

शांतिपूर्ण मार्च की जानकारी  वहीं शांतिपूर्ण मार्च के दौरान मीडिया को संबोधित करते हुए "जस्टिस फॉर सुशांत" (Justish for Sushant)  सिंह करनी सेना के सुनील सिंह डॉ विजय राज सिंह, नीरज सिंह, बरुन सिंह, धीरेंद्र सिंह, बी के सिंह, शैलेश सिंह, राजन सिंह, रंजीत सिंह ने संयुक्त रूप से एक स्वर में कहा कि हमसभी बिहारवासी दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के रहस्यमय मौत की CBI से जाँच कराने की माँग को लेकर शांतिपूर्ण मार्च कर रहे हैं जिसका एक ही मकसद है कि अभिनेता की रहस्यमय मौत का पर्दाफाश हो सके जो बिना सीबीआई जांच के संभव नहीं दिख रहा है। हमसबों ने आज के मार्च के माध्यम से बिहार और देश की सरकार को बताना चाहते हैं कि जब तक अभिनेता सुशांत की मौत की सीबीआई जांच नहीं होती तब तक "जस्टिस फॉर सुशांत"  के अखण्ड दीप तले आंदोलन व प्रदर्शन अनवरत जारी रहेगा। दिवंगत अभिनेता सुशांत को चाहने वाले हमसभी बिहारवासी सीबीआई से जांच कराने संबंधी मांग पत्र को देश के महामहिम राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के अलावे बिहार और महाराष्ट्र सरकार को भी भेजा है। हमसबों को भरोसा है कि सरकार हमारी मांगों पर ध्यान देते हुए सीबीआई जांच करायेगी और यदि ऐसा नहीं हुआ तो फिर हमसभी बिहारी उग्र आंदोलन करेंगे जिसका खामियाजा राज्य व देश की सरकारों को आने वाले चुनाव में भुगतना पड़ेगा।
   'जस्टिस फॉर सुशांत' का मानना है कि बीते14 जून 2020 को मुंबई में अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत जो अभी तक रहस्यमय ही बनी हुई है जिससे दिवंगत अभिनेता के स्वजन और परिजन से लेकर आमजन तक मे रोष व क्षोभ व्याप्त है।
     "जस्टिस फॉर सुशांत" ने महामहिम राष्ट्रपति व अन्य माननीयों को भेजे अपने मांग पत्र में दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की विस्तृत चर्चा करते हुए कहा है कि 'बिहार' के सपूत के साथ-साथ 34वर्ष की अल्पायु में ही अपनी प्रतिभा और काबिलियत की बदौलत लगातार कई सफल टीवी सीरियल और फिल्मों से अभिनय के क्षेत्र में उभरते हुए चर्चित सीने स्टार हो चुके थे। इतना ही नहीं मांग पत्र में दिवंगत अभिनेता के शैक्षणिक योग्यता व स्तर की भी विस्तार से चर्चा करते हुए कहा गया है कि प्रतिभाशाली अभिनेता की मौत को 'आत्महत्या' कहा जा रहा है जो हमसभी बिहारवासी को गले नहीं उतर रहा है और संदेहास्पद भी लगता है इसलिए कि जो इंसान मेधावी व प्रतिभाशाली के साथ-साथ अभी तक विज्ञान की दुनिया से मतलब रखता हो वो आत्महत्या नहीं कर सकता? ऐसी स्थिति में खासकर हमसभी बिहारवासियों का नैतिक कर्तव्य भी बनता है कि अपने बिहार की मिट्टी का लाल दिवंगत अभिनेता स्व. सुशांत सिंह राजपूत जैसे बिहार के सपूत की मौत का रहस्य हमसबों को मालूम हो क्योंकि आम जनता महसूस कर रही है कि आत्महत्या या साजिशन हत्या का उद्भेदन जरूरी है इसके लिए CBI जाँच करवाना समय की माँग है। इस दिशा में सार्थक पहल करते हुए दिशा-निर्देश दिये जाने की मांग की गई है।  जिससे दिवंगत अभिनेता की मौत का पर्दाफाश हो सके।
        "जस्टिस फॉर सुशांत" अखण्ड दीप मीडिया कोऑर्डिनेटर शांतनु सिंह  ने कहा कि आज का शांतिपूर्ण मार्च मुख्य रूप से पटना के अलावे मुजफ्फरपुर (Mujaffarpur), सीतामढ़ी (Sitamari), शिवहर (Shivhar), समस्तीपुर (Samastipur), दरभंगा (Darbhanga), मुंगेर (Munger), खगड़िया (Khagariya), सहरसा (Saharsa), जमुई (Jamui), बाँका (Banka), भागलपुर (Bhagalpur), कटिहार (Katihar), मधेपुरा (Madhepura), शेखपुरा (Shekhpura), आरा (Ara), रोहतास (Rohtas), सासाराम (Sasaram), कैमूर (Kaimoor), औरंगाबाद (Aurangabad), गया (Gaya), नालंदा (Nalanda), वैशाली (Vaishali) सहित प्रमुख शहरों में हुआ।
          पटना में आयोजित मार्च में मुख्य रूप से डॉ विजय राज सिंह, सुनील सिंह,  बरुन सिंह  बी केसिंह, धीरेन्द्र सिंह, राकेश कुमार सिंह, अभिषेक आनंद, विशाल सिंह,संदीप सिंह, ललन सिंह, रोहित सिंह,संजय सिंह, पवन सिंह, दीपक सिंह, कृष्णा .सिंह, सत्यम, राजवीर, दीपक, सत्यम, कृष्णा, सनी, चन्दन, आशीष रंजन,  आदि शामिल थे।

No comments