Header Ad

header ads

केजी से पीजी तक की होगी फ्री पढ़ाई, टेक्नो हेराल्ड ने उठाया बीड़ा

पटना : देश में शिक्षा के अधिकार को लेकर लगातार ऐसी माँगे उठती रही हैं कि यह सबके लिए सुलभ एवं निःशुल्क होनी चाहिए. सरकारी पहलों पर इस मामले में कुछ सफलताओं के बावजूद अब तक इसका परिणाम “एक अधूरी कहानी” की ही तरह है.

किंतु इस बार पटना के प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थान टेक्नो हेराल्ड ने यह बीड़ा उठाया है. संस्थान ऑनलाइन क्षेत्र में इस सपने को साकार करेगी. इसके लिए संस्थान के द्वारा सभी विषयों में केजी से पीजी तक के सभी अध्यायों पर ऑन लाइन वीडियो लेक्चर्स तैयार करके इंटरनेट एवं सोशल मीडिया के माध्यम से सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध कराया जायेगा जिसके लिये छात्र-छात्राओं को किसी तरह का भुगतान नहीं करना पड़ेगा.

संस्थान के निदेशक अभिषेक कुमार सिन्हा ने इस अभियान को परिणाम तक पहुँचाने की ज़िम्मेदारी संस्थान के वरिष्ठ सलाहकार धनंजय कुमार सिन्हा को दी है. साथ ही, उन्हें एक राष्ट्रीय एडवायजरी कमिटी गठित करने का भी निर्देश दिया है ताकि देशभर से योग्य लोगों को इस अभियान से जोड़ा जा सके और अभियान को शीघ्रता से परिणाम तक पहुँचाया जा सके. इस अभियान का नाम “फ्री एजुकेशन फॉर ऑल” रखा गया है.
टेक्नो हेराल्ड संस्थान के वरिष्ठ सलाहकार एवं इस अभियान के नेतृत्वकर्ता धनंजय कुमार सिन्हा ने बताया कि वर्तमान में भी टेक्नो हेराल्ड (Techno Herald) संस्थान के यूटयूब चैनल और फेसबुक पेज पर इंजीनियरिंग एजुकेशन से जुड़े कई लेक्चर्स उपलब्ध कराये गये हैं जिसे छात्र-छात्राएँ अभी भी देख सकते हैं. शीघ्र ही, मेडिकल, मैनेजमेंट, आर्ट्स, साइंस, स्किल डेवलपमेंट, दर्शन, धर्म, ज्योतिष, प्राइमरी तथा हाई स्कूल इत्यादि से जुड़े लेक्चर्स भी उसी यूटयूब चैनल एवं फेसबुक पेज के माध्यम से उपलब्ध कराए जायेंगे.

धनंजय ने कहा कि देश के वैसे विद्यार्थी जिनके पास ऑफलाइन या ऑनलाइन माध्यम से अच्छी शिक्षा के लिए पैसे देने की क्षमता नहीं है, उन ग़रीब से ग़रीब विद्यार्थियों तक ऑनलाइन माध्यम से अच्छी शिक्षा पहुँचाना ही इस पूरे अभियान का प्राथमिक एवं मूल उद्देश्य है, बशर्ते कि विद्यार्थी या विद्यार्थी-समूह इंटरनेट युक्त मोबाइल उपलब्ध कर सके.

धनंजय ने कहा कि सभी विषयों में केजी से पीजी तक के अध्यायों का वीडियो लेक्चर्स तैयार एवं उपलब्ध कराने के साथ-साथ विभिन्न विषयों में शोध संबंधी वीडियो लेक्चर्स भी उपलब्ध कराए जाएँगे. उन्होंने बताया कि पैरेंट एजुकेशन एवं प्रौढ़ शिक्षा को भी सूची में रखा गया है.