बड़ी खबरें

गिद्धौर में तेज आंधी व बारिश ने छीना गरीबों का आशियाना

न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】:-

 मौसम में आए अचानक बदलाव की वजह गुरुवार को अचानक आये तेज बारिश के साथ आधी-तूफान ने गिद्धौर प्रखण्ड क्षेत्र में ताबाही मचा दी है। बारिश व अंधड की वजह से कहीं लोगों के मकानों के छत उखड़ गए तो कहीं बड़े-बड़े पेड़ धराशाही हो गए।


पहली घटना, गिद्धौर प्रखण्ड क्षेत्र के रतनपुर पंचायत अंतर्गत बानाडीह गांव का है जहां वार्ड नंबर 7 में  धनंजय कुमार 'आमोद' के घर पर लगे एल्वेस्टर को तेज आंधी उनके घर से 20 मीटर की दूरी पर उड़ा ले गये। पीड़ित गृहस्वामी धनंजय ने अपनी व्यथा सुनाते हुए बताया कि दो वर्ष पूर्व मिट्टी का घर गिरा तो किसी तरह कर्ज लेकर रहने योग्य बनाया और अपने परिवार के साथ अपना सिर छुपा रहे थे, पर गुरुवार को आई तेज अंधी ने इस आशियाने के छत को उड़ा ले गयी जिससे एलबेस्टर पूर्णतः क्षतिग्रस्त हो गया। अब इस महामारी के मौसम में पूरे परिवार के साथ सिर छुपाने के लिए छत नही रही। इसको लेकर गिद्धौर अंचलाधिकारी अखिलेश सिन्हा से फोन पर बात किये जाने पर बताया कि मामले संबंधित आव्वेदन मिलने पर मुआवजे को लेकर विचार किया जाएगा।


वहिं, दूसरी घटना, गिद्धौर प्रखण्ड क्षेत्र के बनझुलिया गांव का है जहां वार्ड न. 13 में रहने वाले एक निम्नवर्गीय परिवार के लिए अचानक तेज हवा व बारिश आफत बनकर आई थी। उनके घर के बगल के एक आम का पेड़ उनके आशियाने पर ही धरादशाई हो गया। इससे जान का तो नुकसान नहीं हुआ, घर के सभी लोग बाल बाल बच गए। घटनाक्रम की जानकारी देते हुए पीड़ित गृहस्वामी रामाधार सिंह ने बताया कि आम का पेड़ गिरने से उनके घर का शौचालय, एक कमरा, और गौशाला सहित मोटर चैम्बर और चापाकल के सहित हजारों का नुकसान हो गया है। किसी तरह घर के सभी लोग अपनी जान बचा पाए हैं। घर मे गृहस्वामी के अलावे उनकी पत्नी संजू देवी, पुत्र मंतोष कुमार व राहुल कुमार अपने परिवार के साथ सुरक्षित बाहर निकले।
इधर, दोनों जगहों के पीड़ितों ने संयुक्त: अंचलाधिकारी से उचित मुआवजे की मांग की है ताकि सिर छुपाने के लिए ये अपना आशियाना फिर खड़ा कर सके।