बड़ी खबरें

सोनो के अमेठियाडीह में कोरोना मरीज मिलने से प्रशासन ने गांव को किया सील

सोनो (किशोर कुणाल) :- प्रखंड के चुरहेत पंचायत के अमेठियाडीह के एक युवक के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद प्रशासन ने रविवार को बैरियर लगाकर गांव के प्रवेश के सारे रास्ते को सील कर दिया। प्रखंड विकास पदाधिकारी रविजी, अंचलाधिकारी अनिल कुमार चौबे, पुलिस अवर निरीक्षक मृत्युंजय कुमार पंडित अमेठियाडीह पहुंचे और रास्तों को बंद करवाया। लोगों से घरों में रहने की अपील की।


ग्रामीणों से युवक के ट्रेवल हिस्ट्री की जानकारी ली। मिली जानकारी के अनुसार युवक बीते 17 मई की शाम को दिल्ली से एक प्राइवेट कार से अमेठियाडीह पहुंचा था और वहीं में ही क्वारेंटिंन था। 19 मई को उसनें सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ होने की शिकायत की। इसके बाद ग्रामीणों ने इसकी सूचना तत्काल स्वास्थ्य विभाग को दी। 19 मई को ही युवक को एंबुलेंस द्वारा जमुई भेजा गया जहां उसका सैंपल लिया गया और उसे वहीं क्वारेंटिंन कर दिया गया। रविवार को जांच रिपोर्ट आने के बाद उसमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई।
--
 हजारों रुपए किराया देकर रेड जोन से प्राइवेट कार से सीधे घर पहुंच रहे हैं प्रवासी, बढ़ रहा है संक्रमण का खतरा
-
 कोरोना काल में देशभर में जारी लॉक डाउन के कारण विभिन्न प्रदेशों में रह रहे प्रवासी श्रमिकों के सामने भोजन और रोजगार की समस्या उत्पन्न हो गई। ऐसे में क्षेत्र के भी प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी लगातार जारी है। इनमें से देश के रेड जोन दिल्ली, मुंबई, सूरत, पुणे,अहमदाबाद आदि जगहों से आने वाले प्रवासियों की संख्या भी काफी ज्यादा है। प्रशासन द्वारा ऐसे प्रवासियों को स्क्रीनिंग व मेडिकल जांच के बाद वापस लाया जा रहा है वह उन्हें क्वारेंटिंन किया जा रहा है। पर वैसे प्रवासियों की एक बहुत बड़ी तादात है जो रेड जोन वाले इलाके से चोरी छुपे वापस लौटे हैं और सीधे अपने अपने घरों में पहुंच गए हैं। मिली जानकारी के अनुसार प्रखंड के चुरहेत, महेश्वरी,बलथर सहित कई पंचायतों में दिल्ली और मुंबई से आने वाले वैसे प्रवासी की संख्या काफी है जो हजारों रुपए किराया देकर प्राइवेट वाहनों से बिना किसी रोक-टोक के सीधे अपने अपने घर पहुंच गए हैं और यह सिलसिला अभी भी जारी है। ऐसे प्रवासियों के  कोरोना कैरियर्स होने की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता है। वहीं प्रशासन द्वारा इन वाहनों की जांच भी नहीं की जा रही है। इससे क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है।