बड़ी खबरें

भारत भ्रमण को निकले 13 माह से राह पर है पथिक, लोगों में कोरोना को लेकर भय



सिमुलतला (गणेश कुमार सिंह) :

 आस्था की गहरी समुद्र की उपमा इन पति पत्नी की जोड़ियों को दी जा सकती है। राजस्थान निवासी इस जोड़े ने 13 माह पहले मार्च 2019 में भारत भ्रमण के फैसला लिया। इन तेरह माह में हरियाणा, पंजाब, हिमाचल, उत्तर प्रदेश एवं बिहार के मुख्य तीर्थ स्थानों का भ्रमण कर चुके है, इन्होंने बताया कि मेरे भारत भ्रमण की अंतिम पड़ाव देश का अंतिम छोर कन्याकुमारी है, यह सफर तय करने में मुझे लगभग ढाई वर्ष की अवधि लगेगी। यह जोड़ा भवानी सिंह एवं पत्नि सुमन कंवर जमरौली आगरा रोड जयपुर राजस्थान की निवासी है। भारत भ्रमण के पूर्व भवानी सिंह श्री राम आटा जयपुर के कंपनी में सेल्स का कार्य किया करते थे। इनके एक पुत्र एवं एक पुत्री है जो दादा दादी का संरक्षण में है। पथ पर चलते चले इनका विश्राम स्थान पथ के शिवालय, मंदिर आदि होता है, यहीं से मिलने वाली भोजन से इनके खाने पीने की व्यवस्था भी होती है। सिमुलतला शिवालय के चबूतरे पर विश्राम के उपरांत  यह जोड़ा अगले तीर्थ स्थान बैधनाथधाम के दर्शन को खाली पैर ही रवाना हो गए।
वहीँ इस कोरोना महामारी को लेकर इस जोड़े पर भी स्थानीय लोगों का भय देखा गया।

पत्रकारों से पूछे जाने पर उक्त जोड़ा ने बताया कि मुझे हर जिले से आदेश लेकर ही आगे बढ़ने दिया जाता है, जिसकी कोई लिखित प्रतिलिपि मुझे नही दी जाती, मुझे केवल एक नंबर दिया जाता है, वर्तमान में मुझे बिहार बॉर्डर तक जाने की ही आदेश प्राप्त हुआ है। इसके साथ साथ मुझे हर एक स्थान पर मेडिकल टीम जांच करती है, यहाँ पहुंचने से पहले झाझा में मेरा कल जांच किया गया। जोड़े को जाने के उपरांत कोरोना का भय एवं सुरक्षा को लेकर नीलू सिंह द्वारा पूरे शिवालय को सैनेटराइज़ किया गया।