बड़ी खबरें

जन अधिकार छात्र परिषद का बड़ा आरोप - JNU के हमलावरों को संरक्षण दे रही सरकार


पटना : सोमवार को जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों और शिक्षकों पर हुए हमले के विरोध में जन अधिकार छात्र परिषद  पटना यूनिवर्सिटी गेट पर सुबह से धरने पर बैठे रहे। छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं गृह मंत्री अमित शाह का पुतला भी  जलाया। जन अधिकार छात्र परिषद के प्रदेश अध्यक्ष विशाल कुमार ने कहा कि हिंदुस्तान के सर्वोच्च शिक्षण संस्थान जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय जिनका दुनिया लोहा मानती है यदि उस विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओ-शिक्षकों की सुरक्षा की जवाबदेही सरकार नही ले सकती तो ऐसे लोगो की सरकार में एक पल भी रहने का अधिकार नही है।

विशाल ने आरएसएस एवं एविभिपी के ऊपर बैन लगाने की मांग किया। पटना विश्वविद्यालय के नवनिर्वाचित अध्यक्ष मनीष यादव ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री जो बात बात ट्वीट ओर मन की बात करते है वो जब देश के सर्वोच्च शिक्षण संस्थान के छात्रों के ऊपर हमला हुआ ऊपर कोई ट्वीट और ब्यान नही दिया मतलब इनकी नीति और नियत साफ हो गयी है ये सरकार छात्र विरोधी है, जब हमला हुआ तो देश के गृह मंत्री डीजीपी से उन उपद्रवियों को बचाने के लिए कॉल किया इसका ऑडियो सार्वजनिक किया जाए और उसकी जांच की जाए।

जन अधिकार छात्र परिषद के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष आज़ाद चाँद ने कहा कि वर्तमान सरकार JNU के ऊपर हमला देश मे हो रहे CAA, एनपीआर, NRC के विरुद्ध हो रही आंदोलन को गुमराह करने के लिए सोची समझी साजिश के तहत ये हमला करवाई है, सरकार अबतक एक भी उपद्रवियों को क्यो नही पकड़ पाई क्योकि ये उपद्रवी सरकारी छात्र संगठन अविभिपी के गुंडों ने किया है।

जन अधिकार छात्र परिषद के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष रौशन शर्मा ने कहा कि जो सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाव का ढोंग करती है वो सर्वजिनिक हो गया है कि सरकार कैम्पस में गुंडे भेज बच्चियों के बलात्कार करने की कोशिश करने वालो को बचाने की कोशिश की है, छात्र छात्राओं लाठी डंडों से मारा गया और सरकार चुप्पी साधी हुए है।

राहुल रुद्र ने कहा कि सरकार शिक्षा सुरक्षा सम्मान रोजगार जैसे अहम मुद्दे से बात करने से बचती है वो बार बार देश मे एक नए चर्चा को जन्म देती है और उसी का परिणाम है कि कैम्पसों में तनाव का माहौल है। जन अधिकार छात्र परिषद के इस धरना प्रदर्शन एवं पुतला दहन में सुजीत यादव, शौकत अली, विनय कुमार, मोनू कुमार, निशान्त कुमार, दीपंकर कुमार, आदित्या कुमार, सन्नी यादव, रोहित कुमार, सकलैन, शशांक, नीतीश, कृष्णा सहित सैकड़ो छात्र उपस्थित रहे।