बड़ी खबरें

जदयू नेता सुमित सिंह बोले - मानव श्रृंखला में होगी जमुई जिला एवं अंग क्षेत्र की सर्वाधिक भागीदारी


जमुई : जदयू नेता सह चकाई के पूर्व विधायक सुमित कुमार सिंह ने कहा कि जल जीवन हरियाली मानव श्रृंखला में चकाई विधानसभा क्षेत्र, जमुई जिला एवं अंग क्षेत्र की भागीदारी सर्वाधिक होगी। क्या बिना पानी, बिन हरियाली अर्थात, वन क्षेत्र के इंसानी जीवन की कल्पना हो सकती है? इसलिए माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के इस महत्वाकांक्षी परियोजना का महत्व चकाई-सोनो, जमुई जिला एवं अंग क्षेत्र वासियों से अधिक कौन समझ सकते है? हर वर्ष पेयजल का संकट सबसे पहले यही तो झेलते हैं, भूजल स्तर में गिरावट का भीषण प्रकोप यहां होता है। ऐसे में जीवन में जल का महत्व को प्रदर्शित करने में हम अंग क्षेत्र वासी सबसे आगे रहेंगे। बिहार के आधा से अधिक जिलों में भूजल स्तर काफी नीचे चला गया है, इसलिए बिहार के दूरदर्शी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने यह भविष्य के बिहार एवं भावी पीढ़ियों के सहज जीवन के लिए यह अभियान शुरू किया। इसमें जनभागीदारी आवश्यक है, इसके लिए ही यह मानव श्रृंखला आयोजित है। हमारा भविष्य बूंद-बूंद को तरसने को मजबूर न हो, इसके लिए कल सब घर से निकल, एक-दूसरे का हाथ थाम संदेश दें, आज हम भविष्य के बिहार के लिए जल बचाएंगे।बिहार में हरियाली भी वाल्मीकिनगर के अलावा सिर्फ चकाई-सोनो, जमुई जिला एवं अंग क्षेत्र से ही है। वन क्षेत्र यही हैं। अंग की ही देन है बिहार को। इसलिए जल, जीवन हरियाली मानव श्रृंखला में सर्वाधिक भागीदारी भी चकाई-सोनो, जमुई जिला और अंग क्षेत्र की ही होगी। वन क्षेत्र और हरियाली में कमी का परिणाम है कि आज पूरा बिहार भीषण जलवायु परिवर्तन की चपेट में है। कभी भीषण गर्मी से लू की वजह से सैंकड़ों असमय काल कवलित हो जाते हैं। तो कभी ठनका गिरने से पूरे बिहार में कई दर्जन लोग मरते हैं। जमुई जिला में भी इसकी संख्या बहुत अधिक है। तो फिर कभी-कभी बिन पानी के बूंद-बूंद को तरस जाते हैं तो कभी अति वृष्टि से बाढ़ में सबकुछ तबाह हो जाता है। कभी भीषण ठंड जान लेती है तो कभी कभी भीषण गर्मी। ऐसे में सबको जल और हरियाली बचाने आगे आना होगा तभी जीवन बचेगा। इसलिए कल सब संकल्प लें कि सबसे पहले कतार में खड़े होंगे, देश-दुनिया को जल-जीवन-हरियाली के जरिये पर्यावरण बचाने का संदेश देंगे।