बड़ी खबरें

गिद्धौर : सीमावर्ती क्षेत्रों तक नहीं पहुंच पाई मानव श्रृंखला, कई दल में दिखे लोग


गिद्धौर/न्यूज़ डेस्क (भीम राज/अभिषेक) :-

एक तरफ जहां मानव श्रृंखला को लेकर बड़ी-बड़ी बातें की जा रही थी, जागरूकता फैलाए जा रहे थे वहीं दूसरी ओर गिद्धौर प्रखंड भर में रविवार को आयोजित मानव श्रृंखला अपने लक्ष्य और अपेक्षा से पीछे रह गया। 16 किलोमीटर के मानव श्रृंखला निर्माण के लक्ष्य में गिद्धौर कहीं न कहीं चूकता नजर आया।

देखिए वीडियो :- 



 प्रखंड सीमा क्षेत्र के नयागांव स्थित दिग्विजय सिंह  समाधि स्थल तक मानव श्रृंखला में कुछ ही जगहों पर बनती दिखी। नियोजित शिक्षक, संविदा कर्मी के विरोध के कारण श्रृंखला में बच्चों की उपस्थिति नहीं दिखी। गिद्धौर के महुली गांव, कैराकादौ गांव आदि सुदूर जगहों पर मानव श्रृंखला नहीं बन पाई। कुछ चिन्हित जगहों पर सेक्टर एवं नोडल पदाधिकारी नहीं दिखे। हालांकि आधे घण्टे के अवधि में मानव श्रृंखला निर्माण को लेकर  बीडीओ गोपाल कृष्णन, सीओ अखिलेश कुमार सिन्हा, थाना अध्यक्ष आशीष कुमार फील्डिंग में थे।

-

बारह बजते ही घर की ओर कूच हुए लोग

घड़ी की सुई 12 तक पहुंचते ही लोग अपने अपने घर को कूच करने लगे। ऐसा लग रहा था जैसे लोग 12 बजने का ही इंतजार कर रहे हो। आधा घण्टे तक बनने वाले मानव श्रृंखला गिद्धौर में औसतन 15 से 20 मिनट तक देखी गयी।

बच्चों को भी किया गया था कतारबद्ध

गिद्धौर स्थित बंधन बैंक होते हुए प्रखण्ड कार्यालय से लेकर गिद्धौर लार्ड मिंटो टॉवर चौक तक 5 साल तक के बच्चों को भी कतारबद्ध देखा गया, जबकि निर्देशन में  कक्षा 5 तक के बच्चों को मानव शृंखला में भाग लेने की अनुमति नहीं थी। गिद्धौर टावर चौक से गिद्धौर हाई स्कूल तक मानव श्रृंखला 3 गट में दिखा। जो बस औपचारिकता का उदाहरण पेश करने के लिए पर्याप्त था।

मानव शृंखला के दौरान चल रहा था सेल्फी का दौर -

जहां मानव श्रृंखला के सफल निर्माण को लेकर स्वेच्छा से लोग इस अभियान का हिस्सा बन रहे थे वहीं रतनपुर चौक पर मानव श्रृंखला के दौरान सेल्फी का दौर चल रहा था वो भी सरकारी महकमे के बीच। सेल्फी लेते हुए तस्वीर gidhaur.com के कैमरे में कैद हुई। और लोगों के बीच कई घण्टों तक ये चर्चा का विषय बना रहा।