बड़ी खबरें

झारखंड विधानसभा : शुरुआती रुझानों के बाद भाजपा ने आजसू, झाविमो से संपर्क साधा


नई दिल्ली : झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को जारी मतगणना के शुरुआती रुझानों के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के आला नेताओ ने आजसू और झाविमो से सपंर्क साधने शुरू कर दिए हैं। इसके पहले 20 दिसंबर को जब एग्जिट पोल के अनुमान आए थे तो मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 'अबकी बार 65 पार' का दावा किया था। लेकिन शुरुआती रुझानों में बहुमत से पिछड़ने के संकेत मिल रहे हैं।

रघुवर दास ने दावा किया था कि 'जनता ने विकास के लिए डबल इंजन की सरकार के पक्ष में वोट किया है।'

गौरतलब है कि एग्जिट पोल में भाजपा 22 से 32 सीटों पर सिमटती नजर आई थी, वहीं झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) 38 से 50 सीटें जीत कर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरती नजर आई थी।

भले ही आजसू और भाजपा ने एक साथ चुनाव नहीं लड़े हैं, लेकिन न तो भाजपा और न आजसू के सुदेश महतो ने कभी भी दोनों दलों के बड़े नेताओं पर सीधा निशाना साधा।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अंतिम समय तक आजसू के साथ गठबंधन की वकालत करते रहे। वहीं बाबू लाल मरांडी स्वयंसेवक (आरएसएस) रहे हैं। भाजपा से वह राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं। लिहाजा संघ के बड़े नेताओं ने पहले ही बाबू लाल से सर्पक साध रखा है।

इधर रविवार को ही भाजपा के राज्य प्रभारी ओम माथुर, सह सगठन मंत्री सौदान सिंह और चुनाव सह प्रभरी नित्यानन्द राय रांची पहुंच गए हैं।