बड़ी खबरें

जमुई कचहरी चौक पर छात्रों का प्रदर्शन : बेरोजगारी के खिलाफ नारेबाजी कर CAA और NRC का जताया विरोध



जमुई (न्यूज़ डेस्क ) :-


देश में बढ़ती बेरोजगारी, छात्रों पर हो रहे अत्याचार, सीएए, एनआरसी सहित अन्य मुद्दों को लेकर जमुई के छात्र-नौजवानों के द्वारा मार्च निकाला गया। सोमवार को शहर के गांधी पुस्तकालय परिसर में मौजूद महात्मा गांधी के प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर मार्च निकाला गया।


 उक्त मार्च गांधी पुस्तकालय से निकालकर पोस्ट ऑफिस रोड, अटल बिहारी चौक, महाराजगंज होते हुए शहर के अम्बेडकर चौक पर पहुंच कर प्रदर्शन का रूप ले लिया। इस दौरान मार्च में शामिल छात्रों ने केंद्र के विरोध में जमकर नारेबाजी भी की। उक्त मार्च का नेतृत्व प्रभात कुमार चंद्रवंशी के द्वारा किया गया। मार्च में नौजवान छात्र अपने हाथों में तख्ती ले रखी थी। जिसमें संविधान बचाना है, मनु स्मृति भगाना है, सत्याग्रहियों हाथ उठाओं, बेरोजगारी दूर भगाओ, सीएए वापस लो, रोजगार हमें दो, मोदी-शाह काला कानून वापस लो, एनआरसी से आजादी, सीएए से आजादी, एनपीआर से आजादी, देश की जनता पुकारे, सीएए नहीं रोजगार चाहिए आदि नारा लिखा था। मार्च अम्बेडकर चौक पर प्रदर्शन करने के उपरांत अम्बेडकर प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर समाप्त हो गई।


कार्यक्रम में तहनियत ताहा, मो. साकिब अंसारी, प्रिन्स राज, कुमार उत्तम, राहुल रंजन, अब्दुल मल्लिक, मो. अजहर अंसारी, मो. राजा, मो. गुड्डू,आनंन्द कुमार, हन्नी, छोटू, सचिन, मकेश्वर, राजकुमार, मो. रिजवान, मो. अफरोज, मो. जुनैद सहित काफी संख्या में जमुई के छात्र-नौजवान शामिल थे। 

इन छात्र-नौजवानों ने किया संबोधित :

मार्च के उपरांत प्रभात कु चन्द्रवंशी ने कहा कि मोदी देश के प्रधानमंत्री के रूप में नहीं बल्कि आरएसएस के एजेंट के रूप में काम कर रहे है। वे संविधान को मनुस्मृति के रूप में बदलना चाहता है जो हम भारतीय होने नहीं देंगे। देश मे व्यापक बेरोजगारी से युवाओं में न सिर्फ निराशा है अपितु आक्रोश भी है जो राज्यों के चुनावों में दिख रहा है। वहीं तहनियत ताहा ने कहा कि भारत धर्मनिपेक्ष राज्य है लेकिन जब से मोदी सरकार आई है तब से लोगों को भटकाने का कार्य कर रही है। देश में बढ़ती बेरोजगारी सहित अन्य मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाया जा रहा है। देश के लोग आज सीएए और एनआरसी के विरोध में आंदोलित है। दिल्ली के जामिया और अलीगंज विश्वविद्यालय के छात्र-छात्रों को कैंपस और लाइब्रेरी में पुलिस द्वारा पिटा जा रहा है। आज हम सभी छात्र-नौजवान अपने संविधान को बचाने के लिए ही सड़क पर उतरे हुए है। वहीं राहुल कुमार रंजन ने कहा कि हमारा देश मोदिनीति के कारण लगभग 30 साल पीछे जा चुका है और इनसब को छिपाने के लिए संविधान विरोधी बिल लगातार लागू करने पर लगे है। साकिब अंसारी ने कहा कि मोदी पहले भारतीय युवाओं को रोजगार दे फिर सीएए और एनआरसी के तहत 5 करोड़ विदेशियों को बसाने और उसके रोजगार देने के कानून को लागू करें नहीं तो बेरोजगारी के खिलाफ व्यापक आंदोलन होंगे।



छात्रों के हाथों में था तिरंगा :

जमुई के छात्र-नौजवान मार्च के दौरान अपने हाथों में तिरंगा लिए हुए थे। साथ ही भारत का संविधान भी छात्र साथ लेकर चल रहे थे। इस दौरान छात्रा तहनियत ताहा ने कहा कि संविधान बचाने के लिए ही आज छात्र-नौजवान सड़क पर उतरे है। आज धर्म के नाम पर देश को बांटने की कोशिश की जा रही है लेकिन जमुई सहित देश भर के साथ एक जुट होकर अपने देश के साथ संविधान को बचाने के लिए लगातार प्रदर्शन और आंदोलन कर रहे है। सरकार बेटी बचाओं और बेटी पढ़ाने का नारे देती है लेकिन देश की पुलिस छात्रा के साथ मारपीट करने में पीछे नहीं रह रही है।