सेवा के वार्ड नं. 2 में पेयजल की किल्लत, जनप्रतिनिधियों से उपेक्षित हैं ग्रामीण

 [सेवा (गिद्धौर) | शुभम कुमार] Edited by - Abhishek. :-

 धूप की तपिश और बढ़ती गर्मी के प्रकोप से ही पेयजल किल्लत की आवाज उठने लगी है। ताजा उदाहरण गिद्धौऱ प्रखंड अन्तर्गत सेवा पंचायत के वार्ड नं. 02 की है जहां पेयजल की समस्या प्रकाश में आ रही है। पेयजल को लेकर इस वार्ड के ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।



 ग्रामीणों का कहना है कि इस गर्मी में अपने प्यास कि तृष्णा शांत करने को सरकारी चापाकल पर ही आश्रित हैं। इसके अलावे जो कुआँ था वो भी उपयोग के लायक नहीं रहा। पेयजल की समस्या को लेकर जनप्रतिनिधियों के पास भी गुहार लगाई गई, पर इनकी समस्याओं को दरकिनार कर दिया जाता है।


वार्ड नंबर 2 में मौजूद जलस्रोतों से ही इस वार्ड के आधी आबादी की प्यास बुझती है। पर सेवा के पंचायत प्रतिनिधियों के उदासीनता से इस वार्ड के ग्रामीण उपेक्षित हैं।
बता दें,  जिला प्रशासन के पहल से पेयजल किल्लत से निजात दिलाने के लिए  हैंडपंपों की मरम्मत व सरकारी चापाकल को पुनर्जीवित करने का कार्य भी कई जगहों पर चल रहा है। हालांकि विभाग द्वारा गांव कस्बे तक पानी टैंकर के माध्यम से पेयजल सुविधा उपलब्ध कराने को लेकर कटिबद्ध है पर गिद्धौऱ प्रखंड के सेवा गांव में विभाग का यह प्रयास नाकाफ़ी साबित हो रहा है। 

Source :- सदानन्द पंडित (सेवा)
Previous Post Next Post