पाटलिपुत्र : मोदी के खिलाफ होगा एग्रेसिव मतदान,भूमिहारो ने किया मनोबल ऊंचा

【पटना-अनूप नारायण】
पालीगंज। ‘ये सादा मिजाजी तुम्हें जीने नहीं देगी, इस सदी में जीना है तो कोहराम मचाओ।’ मशहुर शायर फैज के इसी पंक्ति के साथ पाटलीपुत्रा लोकसभा क्षेत्र के स्वतंत्र प्रत्याशी आर के शर्मा और उनके समर्थक पूरे जोश में मतदाताओं के बीच अलख जगा रहे हैं। अब जबकि मतदान में चौबीस घंटे से भी कम का समय रह गया है और जैसे-जैसे लोग रविवार की सुबह की प्रतीक्षा कर रहे हैं वैसे-वैसे ही यादव व भूमिहार बहूल पाटलीपुत्रा में कयासों का बाजार जोर पकड़ने लगा है। चाहे यादव वर्ग के लोग हो या भूमिहार वर्ग के इस दफा दोनों वर्गों का वोट एग्रेसिव होकर ही पड़ेगा।

नीतीश कुमार व सुशील मोदी के द्वारा भूमिहार जाति की उपेक्षा से आहत यह जाति जहां आर के शर्मा के पक्ष में गोलबंद होता जा रहा है वहीं यादव जाति के मतदाता लालटेन के पक्ष में दिख रहे हैं। इधर भाजपा प्रत्याशी रामकृपाल यादव भी भूमिहार सहित स्वर्णो के वोट की आस लगाए हैं पर उनकी यह आशा निराशा में ही बदलती दिख रही है। इस चुनाव में सबसे बड़ी बात सामने यह आ रही है कि नतीश व मोदी से नाराज भूमिहार और यादव दोनों जाति के मतदाता यह मानकर चल रहे हैं कि जीत हो तो आर के शर्मा की या फिर राजद प्रत्याशी मीसा भारती की पर किसी कीमत पर भाजपा प्रत्याशी की जीत नहीं हो ताकि नीतीश कुमार को यह संदेश जाए कि किसी जाति विशेष की उपेक्षा से उन्हें क्या हानि हो सकती है। चुनाव के एक दिन पूर्व तक अबतक पाटलीपुत्र की जो स्थिति सामने आ रही है उसके अनुसार अंतत: सीधा मुकाबला ‘ पानी के जहाज’ और ‘लालटेन’ के बीच ही होगा जबकि ‘ कमल’ इस मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने में जी-जान से जूटा है।
Previous Post Next Post