बड़ी खबरें

पढ़े शुभागना की कविता :- नव भारत की ललकार

🇮🇳 नव भारत की ललकार


चीन सुधर जाओ
यह नव भारत की ललकार है
वीर जवानों की शहादत से
मचा यह हाहाकार है।।

चीन सुधर जाओ
यह नव भारत की ललकार है
प्रत्येक भारतवासी के मन में
प्रतिशोध की चित्कार है।।

चीन सुधर जाओ
यह नव भारत की ललकार है
देश की रक्षा की खातिर
सम्पूर्ण भारत तैयार है।।

चीन सुधर जाओ
यह नव भारत की ललकार है
इस नव भारत को
वीरों की शहादत न स्वीकार है।।

चीन सुधर जाओ
यह नव भारत की ललकार है,
यह नव भारत की ललकार है।।

    🇮🇳जय हिन्द जय भारत🇮🇳