Merit Go

Breaking News

गिद्धौर थाना की चाहरदीवारी पर हो रहा है मिथिला पेंटिंग, निखर रहा रूप

न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】:-

कला और संस्कृति में बिहार के मिथिला पेंटिंग (Mithila Paintings) की अपनी एक अलग छवि है। राज्य सहित पूरे विश्व भर में अपनी ख्याति प्राप्त करने वाला मिथिला पेंटिंग अब गिद्धौर थाने की शोभा बढ़ा रहा है। मधुबनी (Madhubani) से आई प्रशिक्षित लड़कियां गिद्धौर थाना परिसर की चाहरदीवारी में मधुबनी पेंटिंग कर इसकी सूरत और सीरत बदल रही है।


पेंटिंग की देखरेख कर रहे जोगीरा इंडिया फाउंडेशन (Jogira India Foundation) के विनोद कुमार बताते हैं कि आधिकारिक आदेश पर दहेज प्रथा और बाल मजदूरी, शराबबंदी के थीम पर थाने के चाहरदीवारों पर मिथिला पेंटिंग बनाई जा रही है। श्री विनोद बताते हैं कि खैरा, मलयपुर, बरहट, और जमुई थाना टाउन  के बाद गिद्धौर थाना में प्रशिक्षित लड़कियों द्वारा मिथिला पेंटिंग बनाई जा रही है। यह पेंटिंग एसपी व डीएम आवास के दीवारों पर भी बनाई जा चुकी है। गिद्धौर थाने के चाहरदीवारी  पर प्रशिक्षण प्राप्त लड़कियां इस पेंटिंग के माध्यम से बाल विवाह, दहेज प्रथा शराबबंदी जैसे सामाजिक विचारधाराओं को भी प्रेरित करने का प्रयास कर रही हैं।

  गौरतलब है कि मिथिला अथवा मधुबनी पेंटिंग (Madhubani Paintings) का काफी पौराणिक महत्व रहा है तथा इसकी शुरुआत त्रेता युग से ही मानी जाती है। ऐसा कहा जाता है कि जब भगवान श्रीराम चंद्र विवाह करने के लिए मिथिला पहुंचे थे तब राजा जनक ने पूरे नगर इलाके की दीवारों पर मधुबनी पेंटिंग बनवाया था।
गिद्धौर थाना की दीवारों पर बन रहे मिथिला पेंटिंग इसके खूबसूरती में चार चांद लगा रहा है।