Breaking News

गिद्धौर : आंगनबाड़ी केंद्रों पर मनाया गया ऊपरी आहार अभ्यास दिवस

[गिद्धौर | भीम राज ] Edited by- Abhishek Kumar Jha.

गिद्धौर प्रखंड में संचालित सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर शुक्रवार को पूरी आहार अभ्यास दिवस मनाया गया। उल्लास पूर्ण वातावरण में मनाए गए इस दिवस पर पोषण की महत्ता पर चर्चा हुई। वहीं रतनपुर पंचायत के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या चार में सेविका गीता देवी के देखरेख में सामुदायिक सहभागिता के जरिए ऊपरी आहार अभ्यास दिवस आयोजित किया गया। मौके पर सेविका ने बताया कि पोषण ही शारीरिक विकास का आधार है दवा तभी कार्य करती है। जब पोषण संतुलित रूप से लोगों को मिलता रहे। आगे उन्होंने कहा कि बच्चों के जन्म के  प्रथम 6 माह में मां का दूध सर्वोत्तम आहार है । वहीं छह माह के बाद स्तनपान पर्याप्त नहीं होता है । शारीरिक एवं मानसिक गतिविधियों में इजाफा होने के कारण 6 माह के बाद स्तनपान के साथ ऊपरी आहार की जरूरत होती है। मौके पर दर्जनों महिलाएं एवं बच्चे मौजूद थे।


बताते चलें कि सूबे भर में सामुदायिक सहभागिता के जरिए ऊपरी आहार से संबंधित व्यवहार परिवर्तन में सुधार के जरिए आईसीडीएस द्वारा नई पहल की गई है। इसके लिए आईसीडीएस निदेशक ने पत्र के माध्यम से सभी जिला कार्यक्रम अधिकारियों को पत्र लिखकर हर शुक्रवार को आंगनवाड़ी केंद्रों पर ऊपरी आहार अभ्यास दिवस मनाने का निर्देश दिया गया है।  जिसमें आंगनबाड़ी सेविकाओं  गृह भ्रमण के जरिए अपने  पोषक क्षेत्र में आने वाले सभी 6 से 9 माह आयु के बच्चों की माताओं को अपने बच्चों के लिए घर से बना गर्म तैयार खाना हर शुक्रवार को नियत समय पर आंगनबाड़ी केंद्रों पर लाने के लिए प्रेरित करेगी। सेविकाए ऊपरी आहार अभ्यास दिवस पर इसका प्रदर्शन कर माताओं को इसके विषय में जागरूक करेगी इससे कुपोषण की समस्या से निजात मिलेगी ।