Breaking News

सिमुलतला : परेशानी का पर्याय बना रेलवे फाटक, लोगों को होती है असुविधा


[सिमुलतला | गणेश कुमार सिंह]

अक्सर देखा जाता है कि सिमुलतला रेलवे फाटक बंद रहने से हर रोज राहगीरों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, रेलवे की इस मनमानी पूर्ण रवैये का खामियाजा इमर्जन्सी सेवा समेत अन्य राहगीरों को भुगतना पड़ता है।
बताते चलें की रेलवे फाटक से सटे एक तरफ लोहिया चौक बाजार है, वहीं दूसरी ओर दो पंचायत की घनी आबादी के साथ-साथ झाझा व कटोरिया से चकाई जाने का मुख्य सड़क।
ऐसे में प्रायः जाम देखा जाता है। कई ऐसे उदाहरण है, जो प्रसव पीड़ा से परेशान महिलाओं को सिर्फ रेलवे फाटक पर हुई विलम्ब के कारण उनका प्रसव अस्पताल पहुंचने से पहले हुई।
कई बार रेलवे फाटक बंद रहने के कारण अस्पताल पहुंचने से पूर्व अपना दम तोड़ देते  हैं।

» ग्रामीणों की सुनिये

इस संदर्भ में स्थानीय निवासी मनोज वर्णवाल,राजकुमार यादव,  प्रमोद यादव अशोक पासवान, बिनोद वर्णवाल आदि दर्जनों लोगों का कहना है क़ि रेलवे की मनमानी पूर्ण रवैये के कारण यह फाटक लोगो के लिए मुशीबत बन गई है। बीमार लोगों के लिए तो यह फाटक यमराज समान है। रेल अधिकारियो को इस समस्या पर विचार करना चाहिए।

»क्या कहते हैं स्टेशन मैनेजर

इस संदर्भ में  स्टेशन प्रबंधक जी आर कान्त का कहना है कि हावड़ा- दिल्ली रेलवे मुख्य मार्ग होने से ट्रेनों का आवागमन अधिक है। रेलवे नियमावली के अनुसार ही फाटक खोला एवं बंद किया जाता है। जिसमें फिलहाल कुछ भी बदलाव कर पाना सम्भव नहीं है।