Breaking News

झाझा : लोगों को लुभाया 'केक्स एंड बेक्स', यहाँ के स्वाद-शुद्धता वाले केक और बेकरी आईटम की है बड़ी मांग

झाझा/जमुई (Jhajha/Jamui), 28 जनवरी | सुशान्त साईं सुन्दरम : केक का नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है. वर्तमान समय में केक खुशियां मनाने का जरिया बन गया है. केक के बिना जन्मदिन या शादी की वर्षगांठ अधूरी लगती है. लेकिन बदलते परिवेश में केक अब सिर्फ जन्मदिन या विवाह की वर्षगांठ तक सीमित नहीं रह है.

कभी मदर्स डे, कभी फादर्स डे, सिस्टर्स डे, ब्रदर्स डे में भी केक काटकर खुशियों का जश्न मनाया जाने लगा है. कई प्राइवेट कंपनियों और बैंकिंग संस्थाओं ने अपने टारगेट पूरा होने पर केक काटने का रिवाज़ ही बना लिया है. 
पिछले 6 वर्षों से झाझा एवं आसपास के क्षेत्रों में केक्स एंड बेक्स के बेकरी आइटम्स और केक की बड़े स्तर पर मांग है. बता दें कि इलाके के लोगों के जन्मदिन और अन्य कार्यक्रमों में केक की जरूरत झाझा के सोनापट्टी स्थित केक्स एंड बेक्स से पूरी हो रही है.

पहले केक की खरीददारी बच्चों तक ही सीमित थी. बच्चों में केक काटने का का शौक अधिक रहता है, लेकिन अब इस केक के प्रति बड़ों का भी रुझान बढ़ा है. 
झाझा के अतिप्रसिद्ध केक्स एंड बेक्स के संचालक भूषण कुमार ने बताया कि ग्राहकों के पसंद पर केक बनाये जाते हैं. ज्यादातर चॉकलेट, पाइनएप्पल, स्ट्राबेरी और वनीला फ्लेवर के केक बिकते हैं. बच्चों के लिए कार्टून वाले केक विशेष रूप से तैयार कराए जाते हैं. जिसका जन्मदिन होता है उसका नाम ऐन वक्त पर लिखा जाता है आकर्षक पैकिंग में गिफ्ट के रूप में भी केक का चलन अधिक बढ़ गया है. आर्डर पर बताए गए साइज और फ्लेवर के केक बनाये जाते हैं.

उन्होंने बताया कि जन्मदिन, एनिवर्सरी, क्रिसमस और अन्य पार्टी-फंक्शन के लिए एगलेस केक, पिज़्ज़ा, पेस्ट्री, चॉकलेट, पाव, स्नैक्स, कोल्ड ड्रिंक हमारे यहां उपलब्ध है. साथ ही बेकरी भी अपनी है, जहां सभी बेकरी आइटम जैसे पिज़्ज़ा का बेस, पाव भाजी का ब्रेड, बन आदि शुद्धता व सफाई से बनाया जाता है. हमारे यहां बनने वाले आइटम्स में अंडे अथवा किसी भी प्रकार के मांसाहारी वस्तु का प्रयोग नहीं होता है. सभी वेराइटी शुद्ध-शाकाहारी मिलते हैं.