बड़ी खबरें

जमुई SBI ब्रांच पर गिरी BPNPSS की गाज, प्रदेश अध्यक्ष ने महाप्रबंधक से की शिकायत

 



JAMUI NEWS (Education) :- बिहार पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ ने जमुई जिले के हजारों खाताधारी शिक्षक उपभोक्ता के खाते में वेतन मद की राशि बिलंब से हस्तांतरित किए जाने को लेकर अपना मोर्चा खोल दिया है। इसको लेकर प्रदेश अध्यक्ष आनंद कौशल सिंह के तेवर भी तल्ख हो गए हैं।


इसी क्रम में  भारतीय स्टेट बैंक, जमुई के शाखा प्रबंधक पर नाराजगी जाहिर करते हुए एसबीआई के अध्यक्ष व महाप्रबंधक से  सभी शिक्षकों के खाते को शीघ्र सैलरी एकाउंट में कन्वर्ट करने की मांग प्रदेश अध्यक्ष द्वारा की गई है। 


बुधवार को संघ कार्यालय में जानकारी देते हुए प्रदेश अध्यक्ष आंनद कौशल सिंह ने बताया कि बिहार सरकार व भारतीय स्टेट बैंक के बीच हुए ए.मो.यू. के मुताबिक बिहार के लाखों शिक्षकों के वेतन का भुगतान भारतीय स्टेट बैंक के द्वारा ही किया जाता है । भारतीय स्टेट बैंक जमुई के मुख्य शाखा के शाखा प्रबंधक के द्वारा शिक्षकों के खाते में वेतन मद की राशि हस्तांतरित करने में अनावश्यक रूप से बिलंब करने और लापरवाही बरतने की शिकायत लगातार संघ को प्राप्त हो रही थी । शिक्षा विभाग के जिला शिक्षा पदाधिकारी, जमुई के द्वारा भी शाखा प्रबंधक को पत्र प्रेषित कर जानकारी दी गई कि 27 अगस्त को जिले के हजारों शिक्षकों के वेतन भुगतान हेतु पॉजिटिव बिल बैंक को दिया गया था परंतु 31अगस्त तक भुगतान नहीं किया जा सका है ।


उन्होंने कहा कि एसबीआई के अध्यक्ष, महाप्रबंधक, शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव, जमुई के जिलाधिकारी, डीईओ को पत्र प्रेषित कर खाताधारी शिक्षकों के भुगतान की समस्याओं की जाँच कर समाधान करने की मांग की गई है ,साथ ही भारतीय स्टेट बैंक के सभी खाताधारी वेतनभोगी शिक्षकों के खाते को चिन्हित कर शीघ्र नियमानुसार भारतीय स्टेट बैंक के सैलरी एकाउंट में कन्वर्ट करने की भी मांग की है । प्रदेश अध्यक्ष आनंद कौशल ने बताया कि शिकायत मिली है कि खासकर पर्व त्योहार के समय भारतीय स्टेट बैंक जमुई के द्वारा शिक्षकों के वेतन से संबंधित पॉजिटिव बिल को अनावश्यक रूप से लटका कर कई दिनों तक रखा जाता है, जिससे भारतीय स्टेट बैंक के हजारों खाताधारी शिक्षकों को बिना बजह पर्व - त्योहार के समय भी आर्थिक व मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है । इस कारण भारतीय स्टेट बैंक के प्रति हजारों शिक्षकों में काफी निराशा और आक्रोश का भाव उत्पन्न हो रहा है । 



No comments