Header Ad

header ads

गिद्धौर दुर्गा मंदिर में संध्या आरती : श्रद्धालुओं ने लांघी सरकारी नियमों की लक्ष्मण रेखा

न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】:-
भारत सरकार के द्वारा जारी किए गए एसओपी की शर्तों के आधार पर वैश्विक महामारी कोविड-19 के संक्रमण को दृष्टिगत करते हुए 8 जून से धार्मिक स्थलों को सशर्त खोले जाने की अनुमति प्रदान की गई।


 ऐसे में गिद्धौर के ऐतिहासिक दुर्गा मन्दिर को भी अनलॉक किया गया, जहां मंगलवार की संध्या आरती आयोजित की गई। आरती में शामिल श्रद्धालुओं की भीड़ से मन्दिर परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग लड़खड़ाती नजर आई।


जबकि आरती से पूर्व हुए एक साक्षात्कार में समिति के कार्यकारी अध्यक्ष गुरुदत्त प्रसाद ने सरकार के शर्तों पर सहमति भरते हुए कोरोना से एतियात बरतने को लेकर पूरी तैयारी की बात कही थी। कहा था कि समिति द्वारा मन्दिर परिसर में सोशल डिस्टनसिंग का पालन कराया जाएगा, प्रशासनिक स्तर पर भी चौकसी सख्त रहेगी, न प्रसाद चढ़ाने की इजाजत होगी और न ही घन्टी बजाने की, पर मंगलवार की संध्या आरती के दौरान ली गयी ये तस्वीरें सब कुछ बयां कर रही है।

देखिए साक्षात्कार का वीडियो


आरती के दौरान प्रसाद भी चढ़ाये गए और घन्टी की आवाज भी सुनाई दी, साथ ही सोशल डिस्टनसिंग अपने धरातल से कोसों दूर नजर आयी।
बता दें, कोरोना से बचाव को लेकर  सरकारी गाइडलाइन्स पर धार्मिक स्थलों में एंट्री से पूर्व सरकार ने नियम कायदों की लक्ष्मण रेखा खींच दी थी पर गिद्धौर दुर्गा मंदिर में संध्या आरती को पहुंचे श्रद्धालुओं ने नियमों की ये लक्ष्मण रेखा लांघ दी।