बड़ी खबरें

बच्चों की पढ़ाई को बाधित ना होने दें : आचार्य सुदर्शन

पटना : कोरोना संकट के कारण पूरे देश में स्कूल-कॉलेज पूरी तरह बंद हैं । बिहार में भी लॉक डाउन सफलतापूर्वक किया गया है, जिस कारण बिहार के सभी सरकारी और गैर-सरकारी विद्यालय बंद हैं । इस बंदी में बिहार के लाखों छात्र-छात्राओं की पढ़ाई बंद है, जिस कारण इनका भविष्य अंधकार में पड़ गया है । इन बच्चों के भविष्य को देखते हुए बिहार सरकार ने निर्णय लिया है कि बच्चों को On-Line सभी विषयों की पढ़ाई कराई जाए । अपने वक्तव्य में आचार्य सुदर्शन ने कहा कि स्कूल तभी अपना दायित्व का निर्वाह कर सकता है, जब नियमित रूप से बच्चों की पढ़ाई होती रहे । अभी कोरोना संकट के कारण जो आपातकालीन स्थिति हो गई है, उसमें पटना सेंट्रल स्कूल, कृष्णा निकेतन एवं ट्रस्ट के अंतर्गत चलने वाले सभी विद्यालयों में विधिवत On-Line पढ़ाई शुरू कर दी गई है । कोर्स पूरा करने के लिए छुट्टी के दिनों में भी हम  कक्षाएं चला रहे हैं और बच्चों तथा अभिभावकों से इसका फीडबैक भी ले रहे हैं । सभी बच्चे एवं अभिभावक On-Line पढ़ाई से पूरी तरह संतुष्ट हैं । यह काम निरंतर चलता रहेगा, स्कूल खुलने के बाद भी हम नियमित रूप से On-Line पढ़ाई जारी रखेंगे ।
             आचार्य सुदर्शन ने कहा कि हमारे ट्रस्ट के अंतर्गत जो विद्यालय चल रहे हैं, उन सभी विद्यालयों के बच्चों को हम पूरी निष्ठा से On-Line पढ़ा रहे हैं । साथ ही अगर हमारे विद्यालय के अतिरिक्त भी कोई अन्य छात्र-छात्राएं हमारी पढ़ाई से लाभ उठाना चाहते हैं, On-Line हमसे जुड़ना चाहते हैं, तो वे हमारे कार्यालय से संपर्क करें । हम उन्हें भी पढ़ाई का पूरा मटेरियल उनके घर बैठे भेजते रहेंगे । ऐसे लोग कृपया रजिस्ट्रेशन करा लें । मुझे प्रसन्नता है कि हमारे शिक्षकों के द्वारा क्लास 1 से 12 तक के छात्र-छात्राओं को जो पठन-पाठन सामग्री On-Line दी जा रही है, उनसे हमारे किसी भी बच्चों को स्कूल बंदी से कोई नुकसान नहीं होगा । विद्यालय में जो पुस्तकें निर्धारित हैं, उन सभी पुस्तकों की आपूर्ति On-Line की जा रही है, ताकि बच्चों को घर बैठे पुस्तकें भी उपलब्ध हो जाए । हम बिहार सरकार के दिशा निर्देशों का पालन कर रहे हैं । ध्यान रखें, बच्चे हमारे जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि हैं, किसी भी कारण से इनके पढ़ाई को बाधित ना होने दें ।