बड़ी खबरें

झामुमो का आरा छपरा पर हमला राजद की सेहत के लिए ठीक नहीं है

पटना | अनूप नारायण :
झारखंड विधानसभा में आज झारखंड मुक्ति मोर्चा  के विधायक लेबिन हेम्ब्रम ने स्थानीय नीति के बहाने बिहार के आरा छपरा के लोगों पर हमला बोला है। यह हमला झारखंड के राजनीति में चाहे जो भी गुल खिलाए, लेकिन बिहार की राजनीति पर इसका दूरगामी प्रभाव पड़ेगा। खासकर राजद के सेहत के लिए यह काफी नुकसानदेह साबित हो सकता है। इसलिए झारखंड सरकार में शामिल राष्ट्रीय जनता दल और इसके मुखिया लालू प्रसाद यादव तथा तेजस्वी यादव को तत्काल संज्ञान लेते हुए झामुमो के ऐसे बयानों पर रोक लगाने की कोशिश करनी चाहिए। वरना आगामी विधानसभा चुनाव में राजद को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।
 झामुमो के विधायक लोबिन हेंम्ब्रम ने आज विधानसभा में कहा कि एचईसी के जमीन पर आरा छपरा के लोगों ने कब्जा जमा लिया है। जबकि स्थानीय रैयत भिखारी बन गए हैं। इसके लिए भाजपा जिम्मेवार है। भाजपा के स्थानीय नीति के कारण ही ऐसा हुआ है। इस बयान को लेकर भाजपा ने झारखंड विधानसभा में कड़ा एतराज जताया है तथा कार्यवाही का बहिष्कार तक कर दिया। लेकिन इस मुद्दे पर झारखंड सरकार में शामिल राष्ट्रीय जनता दल के तरफ से कोई बयान नहीं आया है। बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। और झारखंड में खासकर आरा तथा छपरा के बहुत लोग रहते हैं। भाजपा द्वारा स्थानीय नीति के तहत 1986 से पहले के लोगों को स्थाई होने का दर्जा दिया गया था। लेकिन वर्तमान झामुमो सरकार 1932 के खतियान के आधार पर स्थाई नीति को।म कानून दर्जा देना चाहती है। इसी संदर्भ में झामुमो के विधायक ने ऐसा बयान दिया है। इसलिए राजद को चाहिए कि वह तत्काल इस संदर्भ में अपना नीति स्पष्ट करें। क्योंकि वह झारखंड के सरकार में शामिल है और राजद के एकमात्र विधायक उस सरकार में मंत्री भी हैं।