बड़ी खबरें

गिद्धौर : सेवा रजनबांध के ग्रामीणों को वर्षों से सड़क मार्ग मयस्सर नहीं, जानिए क्या है पेंच

News Desk | Abhishek Kumar Jha】:-

एक ओर जहां सरकार हर घर को सड़क से जोड़ने का दम भरती है, वहीं गिद्धौर प्रखंड के सेवा पंचायत अन्तर्गत रजनबान्ध के ग्रामीण को वर्षों से सम्पर्क सड़क मयस्सर नहीं हो सका है।  रजनबान्ध निवासी दर्जनों ग्रामीणों ने आवागमन हेतु अपने गांव से मुख्य सड़क तक सम्पर्क पथ के निर्माण हेतु जनप्रतिनिधियों से लेकर मुख्यमंत्री तक को पत्र प्रेषित कर आवागमन हेतु सड़क की व्यवस्था करने को लेकर गुहार लगा चुके हैं, बावजूद इसके यह कार्य अभी तक लम्बित पड़ा है।

उक्त सड़क की समस्या को लेकर ग्रामीण अजय कुमार सिंह, बब्बन सिंह, रणजीत कुमार सिंह, मुन्ना सिंह, पुरुषोत्तम कुमार, सुमित कुमार सिंह, भोला सिंह, कल्पना देवी, पुतुल देवी, पूजा सिंह, मन्टून सिंह सहित दर्जनों ग्रामीणों द्वारा सीएम को दिए गए आवेदन में अपनी समस्या को लेकर ध्यानाकृष्ट करते हुए बताया है कि गोरखी आहार बीते कई वर्षों से हम सभी पगडन्डी की सड़क से मुख्य सम्पर्क सड़क तक पहुंचने को विवश हैं। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया है कि उनलोगों के घर के पास गोरखिजोर नाला पड़ता है, जिसका कुछ भाग गिद्धौर और कुछ भाग झाझा प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत आता है। वहीं उक्त गोरखी नाले के इर्द गिर्द गिद्धौर के केतरू नेवादा व झाझा प्रखंड के गोविंदपुर की ओर से किसानों की रैयती जमीन है।

- एक स्वर में बोले ग्रामीण -

ग्रामीणों ने बताया कि नहर की चौड़ाई व गहराई लगभग 12 फ़ीट है, जिसमें बारिश के दिनों में पानी का तेज बहाव होता है, जिसके कारण ग्रामीणों को मुख्यसडक तक सम्पर्क स्थापित करने में पगडंडी का सहारा लेना होता है। इसको लेकर बारिश के दिनों में रजनबांध के ग्रामीणों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इस संदर्भ में रजनबान्ध के किशोर सिंह द्वारा जिला लोक शिकायत पदाधिकारी के समक्ष शिकायत दर्ज कराई थी।



- अंचल अधिकारी सौंप चुके हैं प्रतिवेदन -

 इस मामले को लेकर प्राप्त विभागीय निर्देश के आलोक में इस समस्या को लेकर गिद्धौर अंचलाधिकारी द्वारा सेवा रजनबाँध पहुँचकर स्थल जांच की व विभाग को भेजे गए प्रतिवेदन में स्पष्ट किया है कि सेवा के गोरखिजोर नदी के पार राजपूत टोला है जिसके रास्ता का निकासी सेवा एवं गोविंदपुर गांव के बीच सड़क द्वारा होता है, लेकिन टोला से  मुख्य पथ से जुड़ने के लिए 200 मीटर की पगडन्डी है। मुख्य पथ तक पहुंचने के बीच गोरखिजोर की छोटी नदी है, जहां एक तरफ गिद्धौर अंचल है तथा दूसरे तरफ झाझा अंचल क्षेत्र पड़ता है। लेकिन जोर के उसपार झाझा अंचल के गोविंदपुर किसानों की भूमि है, जो देने को तैयार नहीं, इसलिए उक्त जमीन और सड़क बनाना सम्भव नहीं है।

- जनप्रतिनिधियों ने किया है अधिकरियों को निर्देशित -

इधर, रजनबान्ध के ग्रामीणों के सड़क समस्या के संदर्भ में प्रखंड प्रमुख शम्भू केशरी ने 16/05/2018 को झाझा विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ. रवीन्द्र यादव से पत्राचार कर इस ओर कार्रवाई की मांग की थी। वहीं झाझा विधायक डॉ. रविन्द्र यादव ने संबंधित आंचलाधिकारी से सम्पर्क स्थापित कर ग्रामीणों की समस्या के निदान की बात कही थी, बावजूद इसके अब तक सन्तोषजनक परिणाम उभरकर सामने नहीं आ सकी है। इस परिस्थितियों में दो अंचल सीमा के बीच आज तक रजनबान्ध के ग्रामीण सड़क मार्ग से वंचित हैं, यदि मामलों का न निदान कर कार्य को लम्बित रखा गया तो रजनबान्ध गांव को सम्पर्क सड़क से जुड़ने की ग्रामीण का सपना अधर में लटक जाएगा।