Merit Go

Breaking News

बाल विवाह और दहेज प्रथा को समाप्त करने के लिए आमजन की सहभागिता जरूरी : मिथिलेश्वर वर्मा

न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】 :-

बाल विवाह एवं दहेज प्रथा के पक्ष में दूसरा स्थान रखने वाले जमुई जिले में जिला से लेकर पंचायत तक 4 स्तर पर टास्क फोर्स का गठन पूरा कर लिया गया है। ऐसे में महिला विकास निगम की रणनीति एक अच्छी समझ जान पड़ती है।


उक्त आशय की जानकारी प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से देते हुए महिला विकास निगम (डब्लूडीसी) के समन्वयक मिथिलेश्वर वर्मा ने बताया कि पंचायत स्तरीय टास्क फोर्स के अध्यक्ष मुखिया,  प्रखंड स्तर पर बीडीओ, अनुमंडल स्तर पर एसडीओ और जिला स्तर पर डीएम होते हैं।
श्री वर्मा ने बताया कि 10 तारीख तक प्रगति प्रतिवेदन पंचायत से प्रखंड कार्यालय को भेजने की सर्वसम्मति से स्वीकारा जा चुका है ताकि राज्य को  समय पर उपलब्ध कराकर मुख्यमंत्री के इस अभियान को सफल बनाया जा सके।
विज्ञप्ति में मिथिलेश्वर वर्मा ने जिक्र किया है कि बाल विवाह और दहेज प्रथा को रोकने में यूनिसेफ, एक्शनोइड, और महिला विकास निगम तीनों की सामूहिक सहभागिता है। जिले में बाल विवाह और दहेज प्रथा को लेकर प्राप्त आंकड़े को कम करने में महिला विकास निगम के समन्वयक और अन्य पदाधिकारी इसमें तन्मयता से लगे हैं। उन्होंने बताया कि बाल विवाह और दहेज प्रथा समाज के लिए अभिशाप है, इसे समाप्त करने के लिए आमजन की सहभागिता भी जरूरी है।
 श्री वर्मा ने बाल विवाह और दहेज प्रथा को समाप्त कर जल जीवन हरियाली के समर्थन में एक जुटहोकर आमजन को जागरूक करते हुए मानव श्रृंखला में बढ़-चढ़ कर भाग लेने की अपील की है।