Merit Go

Breaking News

वोट शेयर अनुमानों में झारखंड चुनाव में कांटे की लड़ाई का खुलासा

28 NOV 2019
नई दिल्ली : झारखंड चुनाव को लेकर आईएएनएस-सीवोटर जनमत सर्वेक्षण के अगर सीट शेयर अनुमानों से सत्तारूढ़ भाजपा व विपक्षी गठबंधन झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो), कांग्रेस व राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के बीच राज्य के आगामी चुनावों में लड़ाई बहुत कांटे की होने का संकेत मिला है तो वोट शेयर इस बिंदु को स्पष्ट तौर पर साबित कर रहे हैं। ओपियन पोल के मुताबिक, राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का वोट शेयर 33.3 फीसदी रह सकता है।
नवंबर ट्रैकर के अनुसार झामुमो का वोट शेयर अनुमान 18.8 फीसदी, कांग्रेस का वोट शेयर अनुमान 12.4 फीसदी है, लेकिन राजद का वोट शेयर अनुमान अलग से सूचीबद्ध नहीं किया गया है। 'अन्य' के तहत सूचीबद्ध किया गया वोट शेयर अनुमान 23.2 फीसदी दिखाया गया है।
इसका मायने यह है कि भाजपा के 33.3 फीसदी वोट शेयर के मुकाबले झामुमो और कांग्रेस के गठबंधन का वोट शेयर 31.2 फीसदी है और राजद भी अपने दम पर कुछ वोट शेयर हासिल कर सकता है।
ओपिनियन पोल के अनुसार, झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के लिए 7.7 फीसदी के वोट शेयर का अनुमान है। जेवीएम ने 2014 में कांग्रेस व झामुमो के साथ गठबंधन किया था। इसी तरह आगामी विधानसभा चुनाव में ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (एजेएसयू) के 4.6 फीसदी वोट शेयर हासिल करने का अनुमान है।

झारखंड में विधानसभा चुनाव पांच चरणों में होंगे, जिसकी शुरुआत 30 नवंबर से होगी। मतगणना 23 दिसंबर को होगी।
वोट शेयर को सीटों के जीतने से जोड़ना जटिल है व उच्च वोट शेयर से जरूरी नहीं है कि ज्यादा सीटों पर जीत मिले। उदाहरण के तौर पर 2014 के राज्य विधानसभा चुनावों में झामुमो-कांग्रेस-जेवीएम को 40.8 फीसदी वोट मिले, लेकिन सीट के मामले में यह भाजपा-एजेएसयू गठबंधन से पीछे रहे जिसे 35 फीसदी ही वोट मिले थे। 2014 में भाजपा और एजेएसयू को साथ में 42 सीटें मिलीं। 81 सदस्यीय विधानसभा में सरकार बनाने के लिए जादुई आंकड़ा 41 सीटों का है।
टीम सीवोटर ने कहा, "वर्तमान सर्वे के निष्कर्ष और अनुमान सीवोटर डेली ट्रैकिंग पोल पर आधारित हैं, जिसे बीते सात दिनों के दौरान राज्यभर में 18 प्लस वयस्कों के बीच किया गया"