Breaking News

प्रोग्राम सहायक पद के मेरिट लिस्ट में अनियमितता का आरोप, डीएम जमुई को सौंपा आवेदन

गिद्धौर/जमुई : गिद्धौर निवासी प्रमित कुमार ने प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (PMMVY) ने जिला प्रोग्राम सहायक पद के अंतिम परिणाम के प्रकाशन में अनियमितता की शिकायत जमुई डीएम धर्मेन्द्र कुमार (Jamui DM Dharmendra Kumar) से की है. प्रमित ने इस मामले से सम्बंधित आवेदन डीएम जमुई को सौंपा जिसमें उन्होंने लिखा है कि आईसीडीएस (ICDS) द्वारा जारी हुए फर्स्ट मेरिट लिस्ट में क्रम संख्या 1 में उनका नाम प्रकाशित किया था.

इसके बाद हुए इंटरव्यू के बाद पुनः 4 सितम्बर को एनआईसी जमुई (NIC Jamui) के वेबसाइट पर प्रकाशित फ़ाइनल मेरिट लिस्ट (Merit List) में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी-आईसीडीएस (DPO-ICDS) द्वारा अनियमितता बरती गई, जिसे साक्षात्कार के अंक में भारी उलटफेर के रूप में साफ देखा जा सकता है.
प्रमित ने दिए आवेदन में फ़ाइनल मेरिट लिस्ट में एक परिवार विशेष पर जिला कार्यक्रम पदाधिकारी-आईसीडीएस (DPO-ICDS) द्वारा मेहरबानी का आरोप लगाते हुए कहा है कि उनके निजी सहायक रविन्द्र कुमार एवं उनके भाई मुकेश कुमार को इंटरव्यू में अत्यधिक नम्बर दिया गया है.
अभ्यर्थी प्रमित कुमार
प्रमित की मानें तो क्वालिफिकेशन के आधार पर जारी फर्स्ट मेरिट लिस्ट में उनका नाम पहले नम्बर पर था जबकि इंटरव्यू में उन्हें उनकी काबिलियत से कम नम्बर देकर सीधा पांचवें स्थान पर कर दिया गया और रविन्द्र कुमार को अत्यधिक नम्बर देकर पहले स्थान पर कर दिया गया.

प्रमित ने प्रकाशित मेरिट लिस्ट पर डीएम जमुई धर्मेन्द्र कुमार से पुनर्विचार की मांग की है.

इस बारे में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी-आईसीडीएस (DPO-ICDS) ने कहा है कि इंटरव्यू के लिए टीम गठित था. उसी टीम के समक्ष अभ्यर्थियों का इंटरव्यू (Interview) हुआ है. ऐसे में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी और अनियमितता का आरोप निराधार और बेबुनियाद है.
इसके अलावा प्रमित कुमार, पिता-भोलानाथ केशरी, निवासी ग्राम+पोस्ट+थाना - गिद्धौर, जिला - जमुई ने निदेशक आईसीडीएस (ICDS), पटना एवं आयुक्त आईसीडीएस, मुंगेर के समक्ष भी अपना आवेदन पत्राचार के माध्यम से प्रेषित किया है और अग्रेतर कार्रवाई की मांग करते हुए मेरिट लिस्ट पर पुनर्विचार करने की गुहार लगाई है.