Breaking News

जनजागृति और कानून के जरिये खत्‍म होगी भोजपुरी से अश्‍लीलता : विनय बिहारी

भोजपुरी में अश्‍लील गानों के खिलाफ भोजपुरिया सेना ने शुरू की मुहीम
भोजपुरिया सेना के  राज रंजीत ने कहा – अश्‍लीलता फैवालों पर हो नॉन बेलेबल धारा में कार्रवाई

अनूप नारायण :
भोजपुरी सिनेमा और अलबमों को अश्‍लीलतामुक्‍त करने के लिए भोजपुरिया सेना ने एक मुहीम की शुरूआत आज राजधानी पटना स्थित यूथ हॉस्‍टल में एक संवाददाता सम्‍मेलन के जरिये की है। इस मौके पर गीतकार और भाजपा विधायक विनय बिहारी ने कहा कि भोजपुरी में अश्‍लीलता के लिए कोई एक आदमी जिम्‍मेवार नहीं है। इसलिए इसे समाप्‍त करने के लिए समाज से लेकर गीतकार, म्‍यूजिक कंपनी और सरकार को पहल करनी होगी। 

विनय बिहार ने कहा कि भोजपुरी से अश्‍लीलता जनजागृति और कठोर कानून के जरिये ही खत्‍म हो सकता है। इसकी शुरूआत कुछ बड़े स्‍टार जो आज भी अश्‍लील गाने गा रहे हैं, उनको दो महीने की जेल डाल कर किया जाना चाहिए। उसके बाद एक सकारात्‍मक संदेश जायेगा और लोग भोजपुरी में अश्‍लीलता फैलाने से डरेंगे। उन्‍होंने कहा कि आज मैथिली में अश्‍लीलता नहीं है, क्‍योंकि वहां का समाज जागरूक है। इसलिए भोजपुरी में भी समाज को जागरूक होना पड़ेगा। उन्‍होंने बताया कि बिहार के मुख्‍यमंत्री अश्‍लीलता को लेकर गंभीर हैं और आने वाले विधान सभा सत्र में इस पर बिहार सरकार कोई बड़ा फैसला करने वाली है।
उन्‍होंने पवन – अक्षरा के विवाद पर कहा कि अगर पवन सिंह सही हैं, तो फरार क्‍यों हैं। उन्‍हें सबके सामने आकर चीजों को स्‍पष्‍ट करना चाहिए। ये वही लोग हैं, जो अश्‍लीलता से आगे बढ़ें हैं। ऐसे लोगों के पाप का घड़ा भर चुका है , तभी तो पवन के खिलाफ अक्षरा सिंह ने और खेसारीलाल यादव के लिए प्रियंका पंडित ने केस दर्ज कराया।

संवाददाता सम्‍मेलन के दौरान अभिनेता, सिंगर और भोजपुरिया सेना के राज रंजीत ने कहा कि भोजपुरी को भिखारी ठाकुर, विध्‍यंवासिनी देवी, शारदा सिन्‍हा ने समृद्ध बनाया, लेकिन कुछ कलाकारों ने जल्‍दी तरक्‍की के लिए इसमें गंदगी फैलाई है। यह अब हम भोजपुरी भाषियों को स्‍वीकार नहीं है। इसलिए हमने भोजपुरी सेना का गठन किया है। और हम द्विअर्थी संवाद वाले गाने को बनाने वालों से अपील करते हैं कि वे अश्‍लीलता फैलाना बंद करें, नहीं तो भोजपुरिया सेना कानून कार्रवाई को मजबूर होगी। साथ ही अपने स्‍तर से भी कार्रवाई करेगी। हम सरकार से भी अपील करना चाहते हैं कि वे भोजपुरी से अश्‍लीलता खत्‍म करने के लिए कानून बनाये और इसमें नॉन बेलेबल धारा में कार्रवाई हो।