Breaking News

बंधौरा : गाजे-बाजे के साथ हुई मां काली की विदाई, ऐतिहासिक है मंदिर

{न्यूज डेस्क | अभिषेक कुमार झा}

गिद्धौर प्रखंड अंतर्गत मौरा पंचायत के बन्धौरा गांव अवस्थित ऐतिहासिक काली मंदिर में मां काली की पूजा पूरे विधि विधान व नियम- निष्ठा के साथ सम्पन्न हुआ।

स्थानीय प्रशासन की कड़ी व्यवस्था में
मां काली की प्रतिमा को कंधे पर रखकर विधिवत रूप से बंधौरा के जूरिया आहार में विसर्जित किया गया। 
जिलेभर से पहुँचे हजारों श्रद्धालु भक्तों ने मां काली से अपने परिवार के सुखमय जीवन की प्रार्थना किया। और परिसर में लगे लघु मेले का लुफ्त उठा उठाया ।


मंदिर के इतिहास पर यदि प्रकाश डालें तो इस संदर्भ में यहां पूजा पाठ कराने वाले पंडित जद्दू, प्रह्लाद, सदानंद पंडित आदि बताते हैं कि अकलू पंडित (कुम्हार) ने इनकी स्थापना लगभग 150 वर्ष पहले की और अभी उन्हीं की वंशज जद्दु पंडित करते हैं। वर्तमान में पुजारी नवल किशोर पांडेय हैं जो कि मूल रूप से गुगुलडीह के निवासी हैं और ये बंधोरा निवासी बमशंकर पांडेय के दामाद हैं।

बता दें कि मंदिर का निर्माण पूर्व मंत्री दामोदर रावत द्वारा कराया जा रहा है। इसको लेकर ग्रामीण काफी उत्साहित हैं।

इनपुट सहयोगी :- संजीवन कुमार सिंह, मौरा (गिद्धौर)