Breaking News

नक्सलियों ने पोस्टर चिपका समाजसेवी पर लगाया देह व्यापार का आरोप

Gidhaur.com (बड़ी खबर) : लोगों के बीच प्रसिद्ध व समाजसेवी के नाम से प्रचलित आई. पी. गुप्ता की मुसीबतों को नक्सलियों ने देर रात्रि पोस्टर चिपका कर बढ़ा दी। नक्सलियों ने समाजसेवी आई. पी. गुप्ता पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि लड़कियों का देह व्यापार करने वाले एवं पार्टी के नाम पर भोली-भाली जनता को धोखा देने वाले आई. पी. गुप्ता को जन-अदालत लगा कर सजा दिया जाए। इस धमकी भरे चिपके पोस्टर से थोड़ा सहमे से दिखे आई. पी. गुप्ता।
(जन अदालत लगा सज़ा देने की भी दी धमकी)
चकाई प्रखंड मुख्यालय के दो जगहों पर नक्सलियों नेचिपकाया पोस्टर,इलाके में दहशत का माहौल
देर रात्रि चकाई प्रखंड मुख्यालय में नक्सलियों द्वारा समाजसेवी आई. पी. गुप्ता पर कई घिनौना इल्ज़ाम लगाते हुए धमकी भरे पोस्टर चिपकाए गए थे जिससे सोमवार की अहले सुबह चिपकाए हुए पोस्टर देखे जाने के बाद लोगों में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया है। पोस्टर अंचल कार्यालय एवं आपूर्त्ति कार्यालय के दीवार पर चिपकाये गये थे। इस पोस्टर को देख कर समाजसेवी आई. पी. गुप्ता के प्रति लोगों के बीच कई सवाल खड़े हो गए हैं, कि क्या नक्सलियों द्वारा आई. पी. गुप्ता पर लगाये गए सवाल सही हैं या गलत। अगर गलत है तो आखिर नक्सली ने ऐसा क्यों किया, या फिर अगर सही है तो इतना बड़ा गुनाह कैसे कर सकते हैं। लोग ऐसा संदेह जता रहे हैं।
(नक्सलियों ने कई राजनीति पार्टी के लोगों को भी किया सावधान)
कुछ ऐसे तथ्य लिखे हैं पोस्टर में
पोस्टर कुल पांच जगहों पर चिपकाए गए थे जिसमें पार्टी के नाम पर लुटने वाले गुण्डा गिरोह को चिन्हित कर जन-अदालत में कुत्ता बैसा डंडा की सजा दो, जनता के हक अधिकार से खिलवाड़ करने वालों सावधान,
पार्टी के नाम से जनता को गुमराह करने वाले चोर दलाल होशियार, क्रांतिकारी जनता है तैयार, युवतियों की तस्करी करने वाले आई. पी. गुप्ता जैसे लोगों को कब्र दो तथा लड़कियों को देह व्यापार में झोकनें वाले आई. पी. गुप्ता को जनअदालत में सजा दो लिखा हुआ है। सभी पोस्टरों में निवेदक भाकपा (माओवादी) लिखा हुआ है। पोस्टर साटे जाने की सूचना मिलने पर चकाई पुलिस ने पोस्टर को फाड़ा।

वहीं इस संबंध में समाजसेवी आई.पी.गुप्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि ये सब मेरे ऊपर लगाया गया आरोप बेबुनियाद है जिसका वास्तविकता से कोई संबंध नहीं है। आगे उन्होंने कहा कि नक्सली ऐसी घिनौनी हरकत नहीं कर सकते है। ये किसी अपराधी का काम है। मुझे बदनाम करने की साजिश की जा रही है। अगर इस तरह की कोई बात है तो इसकी जांच की जाए।
फिलहाल लगाए गए आरोप संगीन है कुछ कह पाना मुश्किल है जांच का विषय बना हुआ है जांच के बाद ही मामले की सच्चाई का पता चल पाएगा।

(मो. अंजुम आलम)
जमुई    |      18/09/2017, सोमवार