खुशी की उड़ान का अभियान "ओढ़ा दो जिंदगी" के तहत बांटे गए गर्म कपड़े



वाराणसी (यूपी) : इस खून जमा देने वाली सर्दियों में एक क्षण भी बिना गर्म कपड़ों के बिता पाना नामुमकिन सा है। सरकार के अथक प्रयासों के बाद भी कुछ जरूरतमंद सरकार के पहुँच से दूर रह जा रहे है। ऐसे में सरकार के साथ हर विपदा में खड़ी होती है सामाजिक संस्थाएं। खुशी की उड़ान संस्था अपनी विशेष मुहिम "ओढ़ा दो जिंदगी" अभियान के तहत लगातार जरूरतमंदों के बीच गर्म कपड़े एवं कंबल वितरण कर रही है।


संस्था को आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पुष्पा देवी द्वारा सूचना प्राप्त हुआ कि वाराणसी के टिकरी स्थित मुड़ादेव स्थान पर सैकड़ों ऐसे बच्चे हैं जिनमें पढ़ाई का अटूट जज्बा है, लेकिन सर्द थपेड़े इनके जज्बों को हर वर्ष तोड़ देते हैं। इस वजह से पूरे सर्द महीने भर यह बच्चे पढ़ाई करने नहीं आते। उन्होंने बच्चों और शिक्षा के प्रति अपनी जिम्मेदारी जताई जो समय–समय पर बच्चों के भविष्य और विकास के लिए प्रयत्नरत रहती है। खुशी की उड़ान संस्था ने सूचना का संज्ञान लेकर उन सैकड़ों बच्चों के बीच गर्म कपड़े वितरित किया, ताकि उनकी पढ़ाई जारी रहे।


इस अवसर पर ऑटोनॉमस मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. विनीत मिश्रा ने इस सर्दी में बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए एवं ठंड से बचाव के सम्बंध में बच्चों को स्वास्थ्य संबंधित जानकारी दी।



इस अवसर पर खुशी की उड़ान संस्था की संस्थापिका सारिका दुबे ने कहा कि शिक्षा की ज्योति को प्राप्त करने में सर्द थपेड़े हौसला न तोड़ें, यह हम सबकी नैतिक जिम्मेदारी है। संस्था मानव कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है।


वहीं असिस्टेंट प्रोफेसर ऑटोनॉमस मेडिकल कॉलेज डॉ. विनीत मिश्रा ने इस अवसर पर कहा कि खुशी की उड़ान संस्था दिव्यांगों, महिलाओं  के सर्वांगीण विकास एवं स्वालंबन को लेकर जो कार्य कर रही है, वह अतुलनीय एवं वंदनीय है।


इस मौके पर संस्था के महासचिव देव जायसवाल ने कहा कि जनसेवा एक सोच नही संकल्प है, वह संकल्प जो आपने खुद से किया हो, इस ठण्ड में गर्म कपड़े पाकर बच्चों के चेहरे पर जो खुशियां है, वह उनके हौसले एवं प्रतिभा को निश्चित रूप बढ़ाएगा।



कार्यक्रम में मुख्य रूप से मनीष मिश्रा, राहुल मिश्रा, डॉ. अजय, नीलम टंडन, शिल्पा कोहली, सचिव विकास गुप्ता एवं ऋतिक यादव, विवेक गोंड, अंकित सिंह सहित अन्य समाजसेवियो ने सहयोग किया।

Post a Comment

Previous Post Next Post