Header Ad

header ads

जमुई : अम्बेडकर चौक पर शिक्षकों ने CM और शिक्षामंत्री का किया पुतला दहन

जमुई (न्यूज़ डेस्क) :- बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति जिला इकाई जमुई के द्वारा पटना में शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन कर रहे शिक्षकों पर सरकार द्वारा की गई लाठीचार्ज, वाटर केनन से हमला करने के विरोध में बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति, पटना के आह्वान पर रविवार को अम्बेडकर चौक पर बिहार के मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री का पुतला दहन किया गया, जिसमें जमुई जिला के हजारों शिक्षकों ने भाग लिया।

पुतला दहन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अध्यक्ष मंडल के सदस्य रवि कुमार यादव ने कहा कि सरकार के दमनकारी करवाई से बिहार के शिक्षक आक्रोशित हो गए है,सरकार अभी भी अपनी हठधर्मिता छोड़ शिक्षकों की माँग पूरी करें नही तो आगामी चुनाव में सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। वही महासचिव मंडल के सदस्य जयप्रकाश पासवान ने कहा कि हम शिक्षक करवाई से डरने वाले नही अगर सरकार करवाई करेगी तो बिहार के शिक्षक सड़क पर उतर जाएंगे। संघर्ष समिति के सदस्य निरंजन कुमार ने कहा कि यदि सरकार करवाई करेगी तो आंदोलन और उग्र होगा। अध्यक्ष मंडल के सदस्य अभिषेक राव ने कहा कि पूर्ण वेतनमान मिलने तक आंदोलन जारी रहेगा।

इस पुतला दहन कार्यक्रम में रवि कुमार यादव, निरंजन कुमार, जयप्रकाश पासवान, नवल किशोर यादव, युगल किशोर यादव,अभिषेक राव,पंकज प्रकाश बच्चन, जाफर अली, विनोद वर्मा, मृतुन्जय गोप, जितेश सिंह, सप्पन सिंह, रविंद्र यादव, राजेंद्र दास, संजीत कुमार, राजीव वर्णवाल, नीरज रंजन, रामेश्वर प्रसाद,अशोक कुमार, सुनील कुमार, लखन मंडल,भोला कुमार,महेश शर्मा,उत्तम कुमार, बशिष्ठ यादव,लक्ष्मी यादव, प्रमोद कुमार, शिवकुमार पासवान, विवेकानंद सिंह, राजीव रंजन बब्बन, सुरेश चंद्र यादव, नौशाद आलम, राणा शक्ति सिंह, अभय सिन्हा, भीम यादव, निरंजन वर्मा, रविंद्र वर्णवाल, प्रेम चंद्रवंशी, आशीष चौहान, अबू मनोवर हसन, अवधेश निराला,संतोष ठाकुर,मुकेश कुमार,विपिन सिंह,विपिन आर्य,अशोक कुमार,सुनील कुमार दास,पंकज कुमार,अवधेश कुमार, प्रवीण कुमार, शमीम अख्तर, सुरेंद्र कुमार, मुकेश सिंह, भोला कुमार,बालानंद कुमार, मृत्युंजय सिन्हा, पवन सिंह,खालिद अंसारी, ब्रजेश भारती, संजय यादव,रोहित कुमार, हीरालाल पासवान,व्यास यादव, अवधेश कुमार पप्पू,अजित दुबे,ध्रुब कुमार,सुजीत कुमार, संजय कुमार, राजेश पासवान सहित हजारों शिक्षक उपस्थित थे।