Breaking News

6/recent/ticker-posts

साउथ फिल्मों से आई और भोजपुरी में छा गई अभिनेत्री मधु शर्मा

पटना (अनूप नारायण) : लंबे अरसे के बाद भोजपुरी में बनी फिल्म मां तुझे सलाम भोजपुरिया दर्शकों की कसौटी पर पूरी तरह खरी उतरी है इस फिल्म में पवन सिंह अक्षरा सिंह व मधु शर्मा की जोड़ी है।

फिल्म की नायिका मधु शर्मा इस फिल्म की सफलता के साथ ही चर्चा का केंद्र बिंदु में आ गई है। वैसे तो भोजपुरी की दर्जनों सुपरहिट फिल्मों में नजर आ चुकी मधु भोजपुरी के साथ ही साथ साउथ की फिल्मों की जानी पहचानी नाम है। लेकिन सफलता का नया कीर्तिमान रचने जा रही है भोजपुरी फिल्म मां तुझे सलाम को सफलता के बाद मधु की अभिनय प्रतिभा का लोहा भोजपुरिया दर्शकों के साथ ही साथ भोजपुरी फिल्म समीक्षक भी मान रहे हैं।

बिहार में इस फिल्म के वितरण का कार्य देख रहे हैं रेणु विजय फिल्मस के प्रमुख निशांत उज्जवल भी मानते हैं इस फिल्म ने सिनेमाघरों से दूर हो चुके भोजपुरी के दर्शकों को वापस सिनेमाघरों तरफ खींचा है जो भोजपुरी सिनेमा के लिए शुभ संकेत है।

भोजपुरी फिल्म एक्ट्रेस मधु शर्मा ने कहा कि जब मैं साउथ की फिल्मों में काम करती थी तो उस समय भोजपुरी का नाम सुनते ही डर लगने लगता था। इसके बारे में एक धारण बन चुकी थी कि भोजपुरी फिल्में ठीक नहीं बनती है। डबल मीनिंग  का इस्तेमाल अधिक होता है। लेकिन मैंने इस इंडस्ट्री में जब काम करना शुरू किया तो साफ सुथरी फिल्मों को ही तरजीह दी।

'एक दूजे के लिए' फिल्म से किया था डेब्यू
पटना आई मधु शर्मा ने  बातचीत में कहा कि भोजपुरी फिल्मों में आने की कहानी कुछ अलग है। मेरे डांस मास्टर की वाइफ मुझे बेटी की तरह मानती थी। उन्होंने कहा कि मधु एक भोजपुरी फिल्म तुमको करना चाहिए। कुछ दिनों के बाद उनका निधन हो गया। मैंने उनकी इच्छा पूरी करने के लिए भोजपुरी फिल्म में काम करने का फैसला किया। भोजपुरी फिल्म 'एक दूजे के लिए' ऑफर मिला।

मैंने जब इसकी कहानी सुनी तो मुझे पसंद आई। फिर मैंने फिल्म में काम करने का फैसला किया। फिल्म में एक्टर पवन सिंह और दिनेश लाल यादव थे। फिल्म रिलीज होने के बाद मेरे काम की लोगों ने तारीफ की। जिसके बाद मुझे कई और फिल्मों के ऑफर मिलने लगे।

कुछ लोगों के कारण भोजपुरी हुई बदनाम
मधु ने कहा कि कुछ लोगों के कारण भोजपुरी फिल्में बदनाम हो रही है। कई फिल्मों में डबल मीनिंग  होते है। जिसके कारण महिलाएं सिनेमा देखने नहीं जाती हैं। जिसके कारण भोजपुरी फिल्मों की कमाई कम होती है। महिलाओं से अपील है कि फिल्में देखें। हर फिल्म डबल मीनिंग की नहीं होती है। आप लोग सिनेमा देखेंगी तभी ही कलाकार इंडस्ट्री में टिके रहेंगे।

राजस्थान की रहने वाली मधु ने कहा कि मैंने सात भाषाओं की फिल्मों में काम किया है। जिसके कारण मुझे भोजपुरी बोलने में कोई खास परेशानी नहीं होती है। शुरूआत में थोड़ी दिक्कत हुई थी। जिसके बाद अब बोलने की आदत हो गई है। मौका मिलेगा तो मैं राजस्थानी फिल्मों में भी काम करना चाहूंगी।

मधु ने कहा कि भोजपुरी फिल्म 'मां तुझे सलाम' रिलीज हुई है पर इस साल की सबसे बड़ी हिट की तरफ बढ़ रही है। मधु ने कहा कि मेरी कोशिश होती है कि मैं जो भी फिल्मों में काम करू वह फैमिली फिल्म हो। मेरे खुद के होम प्रोडक्शन की एक भोजपुरी फिल्म आने वाली है। वह पूरी तरह से फैमिली फिल्म होगी। जिसको लेकर काम चल रहा है।

मधु ने कहा कि भोजपुरी फिल्मों का दुर्भाग्य है कि यहां पर हर एक्टर और एक्ट्रेस की जोड़ी बन गई है। एक्टर तय करते हैं कि उनकी फिल्म में कौन एक्ट्रेस होगी। लेकिन दर्शक हर एक्टर को दूसरे एक्ट्रेस के साथ देखना चाहते हैं। जोड़ी के कारण दर्शक फिल्में कम देखते हैं। जिसके कारण भोजपुरी फिल्म के कारोबार पर असर पड़ता है। मधु अब तक 15 से अधिक भोजपुरी फिल्मों में काम कर चुकी हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ