बड़ी खबरें

कुशल युवा प्रोग्राम शिक्षक संघ (LF) ने स्थाई कर्मी की मान्यता देकर समान काम समान वेतन देने की मांग की

न्यूज डेस्क :
कुशल युवा प्रोग्राम शिक्षक (LF) संघ से जुड़े सदस्यों ने बिहार सरकार से छह सूत्री मांग की है। इस मांग में उन्होंने कहा कि पूरे बिहार में जितने एलएफ केवाईपी ऑनसेट परीक्षा पास कर चुके हैं, उनके लिए सामान काम, सामान वेतन लागू किया जाए।
इस संदर्भ में गिद्धौर स्थित कुशल युवा प्रोग्राम केंद्र के अमित कुमार पाण्डेय, पल्लव कुमार, अलका कुमारी ने भी सरकार से सभी एलएफ को स्थायी कर्मचारी की मान्यता प्रदान करने की मांग करते हुए कहा कि हमलोग कुशल युवा प्रोग्राम के तहत कार्य करते है। छात्रों को आत्मनिर्भर बनाने के साथ उन्हें रोजगार परक कार्यक्रम के तहत उनके भविष्य के लिए उनको कुशल बनाते है, लेकिन हम सभी एलएफ का ही भविष्य अंधकारमय दिख रहा है। LF ने कहा कि जब तक केवाईपी केंद्र का संचालन होता रहेगा हम सभी एलएफ की भूमिका में रहेंगे और हम सभी अपने कर्तव्यों का इमानदारी पूर्वक निर्वहन करेंगे।
लेकिन अगर किसी कारणवश केवाईपी केंद्र बंद हो जाता है तो ऐसी परिस्थिति में सरकार हमें किसी सरकारी विभाग में कम्प्यूटर से जुड़े पद पर पदस्थापित करें। जैसे : सरकारी स्कूल में कम्प्यूटर शिक्षक, प्रखंड स्तर पर डाटा इंट्री ऑपरेटर, सरकारी अस्पताल में कम्प्यूटर ऑपरेटर या अन्य किसी संस्थानों में हमारी नियुक्ति करनी होगी। कोरोना में लॉकडाउन में पिछले चार महीने से केंद्र बंद रहने के कारण केंद्र के संचालक व एलएफएस को आर्थिक परेशानियों के दौर से गुजरना पड़ रहा है, इसलिए सरकार से मांग है कि एक केंद्र को संचालित करने में एक महीने का जो खर्च आता है उस हिसाब से लॉकडाउन समय का भुगतान केंद्र संचालक को किया जाय। एलएफ का संपूर्ण नियंत्रण केंद्र संचालक के पास न होकर बिहार सरकार के हाथ में होना चाहिए। राज्य सरकार चाहे तो एलएफ को समय-समय पर पूरे बिहार में एक जिले से दूसरे जिले में स्थानांतरित कर सकती है।