Skip to main content

हमारे पाठक

आप इस पोर्टल पर अपना न्यूज़ लगवाने के लिए हमारे व्हाट्सएप नंबर - 9504036827 पर हमें भेज सकते हैं

बिहार व पिछड़े राज्यों की विशेष आवश्यकताओं को अलग दृष्टिकोण से देखे वित्त आयोग : नीतीश


 Gidhaur.com:(पटना):-15वें वित आयोग का गठन नवम्बर, 2017 में हुआ एवं आयोग द्वारा दिसम्बर, 2017   में राज्यों को पत्र भेज कर  विचारणीय  विषय  जिस  पर  आयोग  की  सिफारिशे आधारित  होंगी,  पर  राज्यों की राय एवं  विशिष्ट सुझावों की मांग की गई। इस पत्र के आलोक में राज्य  के स्तर से बिहार से संबंधित महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर  प्रारंभिक  सुझाव  फरवरी,  2018  में भेजे  गये है।  इस संदर्भ में कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों पर मैं अपने विचार रखना चाहूँगा।                                       

ऐतिहासिक रूप से पक्षपातपूर्ण नीतियों एवं विभिन्न सामाजिक एवं आर्थिक     कारणों के चलते  बिहार का  विकास  बाधित  रहा  है।  वित्त  आयोग  एवं  योजना आयोग  के  वित्तीय  हस्तांतरण  भी राज्यों  के बीच संतुलन सुनिष्चित करने में असफल रहे है जिससे क्षेत्रीय असंतुलन बढ़ा है तथा बिहार इसका सबसे बड़ा भुक्तभोगी रहा है। पिछले 12-13वर्षों में राज्य सरकार ने पिछड़ेपन को दूर करने तथा राज्य को विकास, समृद्धि एवं समरसता के पथ पर अग्रसर करने का अनवरत प्रयास किया है। इस अवधि में प्रतिकूल एवं भेदभावपूर्ण परिस्थितियों के बावजूद राज्य ने दो अंकों का विकास दर हासिल करने में सफलता पाई है। राज्य सरकार ने दृढ़तापूर्वक न्याय के साथ विकास की बुनियाद रखी है। तेजी से प्रगति करने के बावजूद बिहार, प्रति व्यक्ति आय तथा शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक    एवं आर्थिक सेवाओं पर प्रति व्यक्ति खर्च में अभी भी सबसे निचले पायदान पर है।                                

बिहार के विभाजन के उपरान्त प्रमुख उद्योगों के राज्य में नहीं रहने के कारण सरकारी एवं निजी निवेश पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। केन्द्र सरकार ने भी इस क्षेत्रीय  विषमता को दूर करने  के लिए राज्य को कोई विशेष मदद नही की है। इन्हीं कारणों से राज्य के विकास पर नकारात्मक प्रभाव  पड़ा है  और आज राज्य की प्रतिव्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत से 68 प्रतिशत कम है। अतः सर्वप्रथम वित्त आयोग को एक वास्तविक समय-सीमा के अन्तर्गत प्रतिव्यक्ति आय की बढ़ती हुई विषमता को दूर करने के लिए ठोस सिफारिश करने की आवश्यकता है।

 

मैंने लगातार इस मुद्दे को उठाया है कि 14वें वित्त आयोग की अनुशंसा के तहत राज्यों के अन्तरण को जो 32 प्रतिशत से बढ़ाकर 42 प्रतिशत किया गया है वह मात्र एक संरचनात्मक परिर्वतन (Compositional Sheet) है। एक ओर कर अन्तरणों में वृद्धि के कारण राज्यों की जो हिस्सेदारी बढ़ी वह दूसरी ओर केन्द्र सरकार द्वारा केन्द्रीय योजनाओं एवं केन्द्र प्रायोजित योजनाओं के आवंटन में कटौती के कारण काफी हद तक समायोजित हो गई। इसके अतिरिक्त राज्यवार जो अन्तरण पद्धति निर्धारित हुई उसके कारण बिहार का हिस्सा 10.917 प्रतिशत (13वें वित्त आयोग) से घटकर 9.665प्रतिशत (14वें वित्त  आयोग) हो गया। वस्तुतः पिछले 4 वित्त  आयोगों की अनुसंशाओं में कुल देय कर राजस्व में बिहार की हिस्सेदारी लगातार कम हुई है- 11वें वित्त  आयोग में11.589 प्रतिशत से घटकर 12वें वित्त  आयोग में 11.028प्रतिशत, 13वें वित्त  आयोग में 10.917 प्रतिशत और 14वें वित्त  आयोग में 9.665 प्रतिशत हुई।

 

14वें वित्त  आयोग ने जहाँ कुल क्षेत्रफल और कुल वनाच्छादित क्षेत्रफल को ज्यादा महत्व दिया, वहीं जनसंख्या घनत्व एवं प्राकृतिक संसाधनों की अनुपलब्धता के साथ-साथ बिहार जैसे थलरूद्ध राज्यों की विशिष्ट समस्याओं की अनदेखी की। यहाँ तक कि हरित आवरण को बढ़ाने हेतु राज्य सरकार के प्रयासों को प्रोत्साहित करने की जगह उनकी उपेक्षा की गई। कृषि रोड मैप के तहत हरियाली मिशन के अन्तर्गत राज्य में हरित आवरण 9.79 प्रतिशत से बढ़कर लगभग 15 प्रतिशत हो गया है। अब हमारा लक्ष्य इसे बढ़ाकर वर्ष 2022 तक 17 प्रतिशत करने का है जो कि बिहार जैसे अधिक जनसंख्या घनत्व वाले राज्य के लिए अधिकतम संभव है। अतः हरित आवरण को बढ़ाने के लिए राज्यों द्वारा किये जा रहे प्रयासों को प्रोत्साहित करने हेतु विशिष्ट अनुसंशा करना राज्य हित एवं राष्ट्रीय हित में होगा।

 

इसके अतिरिक्त नेपाल एवं अन्य राज्यों से उद्भूत होने वाली नदियों से प्रत्येक वर्ष आनेवाली बाढ़ के कारण भौतिक एवं सामाजिक आधारभूत संरचना में हुए नुकसान की भरपाई हेतु बिहार को अतिरिक्त

वित्तये  भार उठाना पड़ता है। ऐसे कारण जो बिहार के नियंत्रण में     नहीं हैं, की वजह से राज्य को प्रत्येक वर्ष    बाढ़   का  दंश  झेलना  पड़ता  है  और  बाढ़-राहत,  पुनर्वासएवं    पुनर्निर्माण  कार्यों  पर काफी  राशि  व्यय होती है। गंगा बेसिन के उपरी राज्यों में निर्मित बांधों, बराजों    एवं अन्य संरचनाओं के चलते नदी के प्रवाह में  कमी  आई  है।  इसके  अतिरिक्त  पहाड़ी  क्षेत्र  में  वनों  के क्षरण  एवं  खनन  गतिविधियों  ने  नदी  के स्वाभाविक प्रवाह पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है जिसके कारण मैदानी क्षेत्रों में गाद अधिक मात्रा में पहुँच रही है। इससे  बिहार में बाढ़ की तीव्रता एवं व्यापकता में वृद्धि हुई है। सोन नदी के मामले में भी पड़ोसी राज्यों-मध्य प्रदेश एवं उत्तर प्रदेश के द्वारा कभी भी जल बँटवारे से संबंधित बाणसागर समझौते (1973) का अनुपालन नही किया गया है पर जब भी सोन नदी बेसिन में अधिक वर्षा होती है तो बाणसागर एवं रिहन्द बांध से अचानक अत्यधिक पानी छोड़ दिया जाता है जिसके कारण बिहार में बाढ़ आती है और नुकसान होता  है।  अतः  राज्यों की  हिस्सेदारी  से  संबंधित मानदंडों  के  निर्धारण  के  दौरान इन बाह्य  कारणों  का समावेशन किया जाना चाहिए।           

जहाँ  तक  जनसंख्या  के मापदंड  की  बात  है,  14वें वित्त आयोग द्वारा  जनसंख्या  को अधिक  महत्व देते  हुए  1971  की  जनगणना  को  17.5  प्रतिशत   एवं  2011  की  जनगणना  को  10  प्रतिशत  हिस्सा  दिया गया। यह हमारा दृढ़ विचार है कि जनसांख्यिकीय बदलाव को समझने तथा नागरिकों  की आवश्यकताओं के संख्यात्मक आकलन के लिए जनसंख्या के अद्यतन आँकड़ों को महत्व  देना आवश्यक है। अंततः सभी नागरिकों    की      बुनियादी आवश्यकताओं  को  पूरा  किया  जाना  है  अन्यथा  देश  में विकास  के  कुछ  द्वीप  ही सृजित  होंगे।  इसलिए  15वें  वित्त  आयोग  के  विचारणीय  बिन्दुओं  में  2011  की  जनसंख्या   के  आकड़ों  को ऊध्र्वाधर   एवं    क्षैतिज  वितरण  का  आधार  बनाया  जाना  एक स्वागत  योग्य कदम  है  जो    लम्बे  समय   से अपेक्षित    था।   कुछ राज्यों द्वारा इसका विरोध किया जा रहा   है पर उनका विरोध अतार्किक है क्योंकि 15वें वित्त आयोग के विचारणीय बिन्दुओं में राज्यों द्वारा जनसंख्या स्थिरीकरण के प्रयासों को मान्यता देते हुए उल्लेख किया  गया है कि ’’जनसंख्या वृद्धि की प्रतिस्थापन दर की दिशा में किये गये प्रयास और प्रगति’’ को सिफारिशों में महत्व दिया जा सकेगा। ये प्रावधान जनसंख्या के अद्यतन आँकड़ों पर आधारित नागरिकों की आवश्यकताओं तथा राज्यों द्वारा जनसंख्या स्थिरीकरण के प्रयासों को संतुलित कर सकेंगे।

 

13वें वित्त  आयोग ने राज्य की विशिष्ट आवश्यकताओं के लिए सहायता अनुदान की सिफारिश की थी जिस पर 15वें वित्त  आयोग को भी विचार करना चाहिए। यह पिछड़े राज्यों एवं विकसित राज्यों के बीच की खाई को पाटने में मदद करेगा। 14वें वित्त  आयोग ने अपनी सिफारिशों में यह सुझाव दिया था कि यदि सूत्र आधारित अंतरण राज्य विशेष की विशिष्ट आवश्यकताओं की पूर्ति न कर सकें तो उसे निष्पक्ष ढंग से एवं सुनिश्चित रूप से विशेष सहायता अनुदान से पूरा किया जाना चाहिए। इस सुझाव को लागू नही किया गया है। अतः 15वें वित्त  आयोग द्वारा बिहार जैसे पिछड़े राज्यों की विशेष एवं विशिष्ट समस्याओं को देखा जाना चाहिए।

 
आजादी के पहले बिहार में लागू प्रतिगामी स्थायी बन्दोबस्ती व्यवस्था ने राज्य में सामाजिक एवं संरचनात्मक विकास को बाधित किया तथा आजादी के बाद मालवाहक भाड़ा सामान्यीकरण की नीति के कारण तत्कालीन बिहार को कच्चे माल की प्रचुर उपलब्धता एवं लागत-लाभ का फायदा नही मिल सका। इस अवधि में जबकि दक्षिण एवं पश्चिम भारत के तटीय राज्यों में आद्यौगिक विकास हुआ, बिहार पिछड़ेपन का शिकार रहा। बिहार के बंटवारे के बाद प्रमुख उद्योगों और खदानों के झारखंड में चले जाने के कारण यह समस्या और भी गंभीर हुई। यद्यपि हाल के वर्षों में बिहार ने तेजी से विकास किया पर अब भी भौतिक एवं सामाजिक संरचनाओं के मापदंड में बिहार अत्यंत ही पिछड़ा है। बिहार पुनर्गठन अधिनियम 2000 में यह प्रावधान है कि विभाजन के फलस्वरूप बिहार को होने वाली वित्तीय कठिनाईयों के संदर्भ में एक विशेष कोषांग उपाध्यक्ष, योजना आयोग के सीधे नियंत्रण में गठित होगा और वह बिहार की आवश्यकताओं के अनुरूप अनुशंसायें करेगा। इस वैधिक प्रावधान के तहत राज्य की विशिष्ट आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कुछ ही सहायता मिली है। अब योजना आयोग के स्थान पर नीति आयोग का गठन हुआ है। अतः अब नीति आयोग पर ही इस वैधिक प्रावधान को इसकी मूल अवधारणा के अनुरूप अक्षरशः लागू करने की जिम्मेवारी है।

 
यदि अन्तर-क्षेत्रीय एवं अन्तर्राज्यीय विकास के स्तर में भिन्नता से संबंधित आँकड़ों की समीक्षा की जाए तो पाया जायेगा कि कई राज्य विकास के विभिन्न मापदंडों यथा- प्रति व्यक्ति आय,शिक्षा, स्वास्थ्य, ऊर्जा, सांस्थिक वित्त  एवं मानव विकास के सूचकांकों, पर राष्ट्रीय औसत से काफी नीचे हैं। तर्कसंगत आर्थिक रणनीति वही होगी जो ऐसे निवेश और अन्तरण पद्वति को प्रोत्साहित करे जिससे पिछड़े राज्यों को एक निर्धारित समय सीमा में विकास के राष्ट्रीय औसत तक पहुँचने में मदद मिले। हमारी विशेष राज्य के दर्जे की मांग इसी अवधारणा पर आधारित है। हमने लगातार केन्द्र सरकार से बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने की मांग की है। बिहार को यदि विशेष राज्य का दर्जा मिलता है तो केन्द्र प्रायोजित योजनाओं में राज्यांश घटेगा जिससे राज्य को अतिरिक्त संसाधन उपलब्ध होंगेे, बाह्य संसाधनों तक पहुँच बढ़ेगी, निजी निवेश को कर छूट एवं रियायतों के कारण प्रोत्साहन मिलेगा, रोजगार के अवसर पैदा होंगे और जीवन स्तर में सुधार होगा।

 बिहार एक थलरूद्ध राज्य है और ऐसे ’’थलरूद्ध एवं अत्यधिक पिछड़े राज्य’’ अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी विशेष एवं विभेदित व्यवहार के हकदार है। इस संदर्भ में 15वें वित्त  आयोग को बिहार जैसे पिछड़े राज्य को राष्ट्रीय स्तर तक लाने के लिए संसाधनों की कमी को चिन्ह्ति कर विशेष सहायता देने की आवश्यकता है।
अनूप नारायण
 (पटना)

Comments

Most Read

एनडीए छोड़ महागठबंधन में मांझी, नाराज नरेंद्र सिंह का नहीं मिला साथ

Gidhaur.com (राजनीति) : बुधवार को होली से दो दिन पहले ही बिहार में राजनीतिक घटनाक्रम तेजी से बदले। एक ओर जहाँ भाजपा नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से अलग होकर हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) बिहार में राजद-कांग्रेस वाले महागठबंधन से जा मिला वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के चार विधान पार्षद पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक चौधरी के नेतृत्व में सूबे के सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गए। 

कांग्रेस विधान पार्षदों के जदयू में शामिल होने के बाद कांग्रेस ने उन्हें पार्टी से निकाला
हालाँकि चारों कांग्रेस नेताओं के जदयू में शामिल होने के थोड़ी ही देर बार कांग्रेस पार्टी के प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष कौकब कादरी ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया। जिस पर चुटकी लेते हुए डॉ. अशोक चौधरी ने कहा कि अब जबकि वो जदयू में शामिल हो गए हैं उसके बाद उन्हें पार्टी से निष्कासित किया जा रहा है, कांग्रेस यहाँ भी लेट हो गई। 
मांझी के साथ नहीं दिख रहे पार्टी के बड़े नेता
दूसरी ओर महागठबंधन और एनडीए में तेजी से हुए इस फेरबदल में हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) के प्रमुख व सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी …

गिद्धौर में शिक्षक प्रशिक्षण केन्द्र का निर्माण शुरू, भूमि पूजन संपन्न

"गिद्धौर शिक्षा के क्षेत्र में दिनोंदिन आगे बढ़ रहा है। साईकिल से विद्यालय जाती लड़कियां और हर वर्ष मैट्रिक-इंटर परीक्षा में बेहतरीन रिजल्ट इस बात का प्रमाण है कि बच्चों के पढ़ने की ललक के आगे अभिभावक भी जागरूक होकर उन्हें विद्यालय जाने को प्रोत्साहित कर रहे हैं। लेकिन इन नौनिहालों को अच्छी शिक्षा तब मिल पाएगी जब उन्हें अच्छे शिक्षकों का साथ मिलेगा, और अच्छे शिक्षकों के लिए गिद्धौर में एक बीएड कॉलेज का होना समय की मांग है। हम गिद्धौर में जमीन उपलब्ध करवाएंगे यदि आप इस दिशा में विशेष ध्यान देकर शिक्षक प्रशिक्षण केन्द्र निर्माण करवाने की पहल करें।" 
वर्ष 2014 में 6 फ़रवरी को जब गिद्धौर स्थित महाराज चंद्रचूड़ विद्यामंदिर के हीरक जयंती कार्यक्रम का भव्य आयोजन किया गया था तब कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि के रूप में गिद्धौर निवासी व बिहार सरकार के तत्कालीन भवन निर्माण मंत्री श्री दामोदर रावत ने कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व उद्घाटनकर्ता सूबे के तत्कालीन शिक्षा मंत्री श्री पी के शाही का गिद्धौर की धरती पर स्वागत करते हुए यह प्रस्ताव रखा था। जिसके जवाब में श्री शाही ने अपने भाषण के दौरान गिद्धौ…

बड़ी खबर : प्रगति ने लालटेन छोड़ थामा तीर, टूटा राजद का स्तम्भ

Gidhaur.com  -  बिहार के राजनीतिक परिदृश्य में बुधवार को एक बड़ी उलटफेर देखने को मिली। राष्ट्रीय जनता दल अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश प्रवक्ता, प्रदेश मीडिया प्रभारी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य एवं 2014 लोकसभा में राजद के मुंगेर प्रत्याशी श्री प्रगति मेहता आज जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गए। उन्हें जदयू बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने पार्टी की सदस्यता दिलाई एवं माला पहना कर उनका स्वागत किया। पार्टी में शामिल होने के बाद श्री मेहता ने कहा कि हमलोग समाज के लिए देश के लिए कुछ काम करने आते हैं और एक सम्मान की चाहत होती है। मुझे लग रहा है कि सही जगह मैं आया हूँ। सम्मान जो मिल रहा है और सम्मान की जो उम्मीद लोग करते हैं इसकी वह सही जगह है। माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जो विकास किया है और उनका जो विजन है और सबसे बड़ी बात भ्रष्टाचार के मसले पर जो जीरो टोलेरेंस का उनका दृढ संकल्प है उससे मैं काफी प्रभावित हूँ। उन्होंने दाएं-देखा न बाएं देखा अपनी निति पर अडिग रहे और उन्होंने कड़ा फैसला लिया। भ्रष्टाचार से हम समझौता नहीं कर सकते, कुर्सी रहे चाहे जाए।
प्रगति मेहता …

गिद्धौर : मिलेनियम स्टार फाउंडेशन ने चलाया सफाई अभियान

Gidhaur.com(न्यूज़ डेस्क) : रविवार को गिद्धौर के दुर्गा मंदिर एवं मेला परिसर में सामाजिक गतिविधियों में सक्रीय स्थानीय संस्था मिलेनियम स्टार फाउंडेशन द्वारा सफाई अभियान चलाया गया. जिसमे दर्जनों युवाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और इस कार्यक्रम को सफल बनाया. रविवार की सुबह सात बजे जैसे ही मिलेनियम स्टार के सदस्यों ने हाथों में झाड़ू लेकर मेला परिसर में प्रवेश किया, वहां मौजूद सभी लोग कौतुहलवश देखने लगे की यहाँ आखिर क्या होने वाला है. गिद्धौर में ऐसा पहली बार हुआ की एक सामाजिक संस्था के द्वारा ऐसी निःस्वार्थ भावना से कचड़े की साफ़-सफाई की गई हो. गिद्धौर में दुर्गा पूजा एवं लक्ष्मी पूजा के पंद्रह दिनों से भी अधिक के समय में मेले के दौरान कितनी गंदगी हो जाती है, यह तो यहाँ के निवासी ही बता सकते हैं. लेकिन इस गन्दगी को दूर करने के विषय में कोई सोचता तक नहीं. सफाई अभियान का संचालन शैलेश कुमार के नेतृत्व में किया गया. जिसमें मुख्य रूप से उपस्थित मिलेनियम स्टार फाउंडेशन के अध्यक्ष सुशान्त साईं सुन्दरम ने कहा की किसी न किसी को इस कार्य के लिए पहल करनी ही चाहिए थी, तो यह हमारा सौभाग्य है की हमारी संस्था …

जमुई : हथियार के बल पर मेडिकल शॉप को लूटने का असफल प्रयास

Gidhaur.com(जमुई) : सोमवार को जमुई ज़िले के टाऊन थाना क्षेत्र से महज 100 मीटर की दूरी पर स्थित बर्णवाल मेडिकल हॉल में रात्रि 9 बजे हथियार के बल पर एक अपराधी ने लूट-पाट का प्रयास किया एवं दुकानदार से रंगदारी लेना चाहा। इसका विरोध किये जाने पर अपराधी ने दुकानदार को हथियार का भय दिखाकर डराने का भी प्रयास किया। शराब के नशे में धुत था अपराधी गौतम राम इस दौरान दुकानदार और लुटेरे के बीच हाथापाई भी हुई जिसमे दुकानदार ने लुटेरे के हाथ से हथियार छीन लिया, लेकिन लुटेरा हाथ छुड़ा कर दुकान से भाग निकला। दूकान में लगे कैमरा फुटेज के आधार पर शिनाख्त कर की गई गिरफ्तारी दुकान के अंदर हो रहे इस पूरी घटना को वहां लगे सीसीटीवी कैमरा ने रिकॉर्ड कर लिया। पुलिस के पहुँचने के बाद उन्हें सीसीटीवी की पूरी रिकॉर्डिंग दिखाई गई। वीडियो फुटेज में जो शख्स लूट पाट का प्रयास कर रहा था उसकी पहचान पुलिस ने कल्याणपुर निवासी अपराधी गौतम कुमार के रूप में की। इसके बाद पुलिस ने शहर में छापेमारी शुरू कर दी। इस दौरान लुटेरा गौतम कुमार को पुलिस ने महज 20 मिनट में गिरफ्तार कर लिया। 
(मो.अंजुम आलम) जमुई     |     12/09/2017, मंगलवार www.…

जमुई की खुशबु बनी इंटर विज्ञान में राज्य टॉपर

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा बारहवीं के सभी संकायों का रिजल्ट आज जारी कर दिया गया। विज्ञान संकाय में जमुई की खुशबु कुमारी ने राज्यभर में टॉप किया है। खुशबु सिमुलतला आवासीय विद्यालय की छात्रा है। खुशबु को 500 में 431 अंक मिले हैं। 86.2 प्रतिशत अंक लाकर खुशबु ने विज्ञान संकाय में राज्यभर में अपना परचम लहरा दिया है। खुशबु का परिवार मूल रूप से औरंगाबाद के रहने वाले हैं। उनके पिता अभय कुमार बिजली विभाग में ऑपरेटर हैं एवं माता गृहिणी हैं। खुशबु ने अपने बेहतरीन रिजल्ट का श्रेय अपने माता-पिता और शिक्षकों को दिया है। उनका कहना है कि सिलेबस की अच्छे तरीके से पढ़ाई, सेल्फ स्टडी और मॉडल सेट से प्रैक्टिस द्वारा ही यह संभव हो पाया है। तनाव को उन्होंने अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया और बिलकुल रिलैक्स होकर सभी पेपर लिखे। इसके साथ ही खुशबु ने JEE MAINS की परीक्षा क्रैक कर चुकी हैं और अब एडवांस के रिजल्ट का इन्तजार कर रही हैं। 

(खुशबु कुमारी का मार्कशीट)
(सुशान्त साईं सुन्दरम)~गिद्धौर       |       30/05/2017, मंगलवार 
www.gidhaur.blogspot.com


सोनो : लापता खुशबू जल्द होगी बरामद, टीम गठित

gidhaur.com(सोनो) :- सोनो की खुशबू के गायब होने को लेकर शनिवार को सोनो थाना परिसर में प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई गई, जहां पर झाझा एस.डी.पी.ओ. भास्कर रंजन उपस्थित हुए।

इस मौके पर सोनो के सभी पत्रकारों के अलावा सोनो के कई बुद्धिजीवियों ने उपस्थिति दर्ज कराई।
बताते चलें कि, कांफ्रेंस के दौरान सर्व प्रथम गिरफ्तार किए गए खुशबू के फुफा गोपाल तमोली से पुछताछ की गई।  इसके बाद काफी देर तक सभी से राय परामर्श के उपरांत निर्णय इस बिंदु पर पहुंचा कि खुशबू की हत्या नहीं बल्कि वह भाग गई है। हालांकि एस.डी.पी.ओ. भास्कर रंजन ने बताया कि जब तक खुशबू  बरामद नहीं हो जाती तब तक कई बिंदुओं पर पुलिस की निगाह बनी रहेगी। खुशबू की बरामदगी के लिए एक टीम गठित करने का आदेश सोनो थाना को देते हुए उन्होंने कहा कि टीम का गठन कर गोपाल तमोली के द्वारा बताए गए स्थान पर खांख छानी जाए, ताकि सोनो बाजार के लोगों को कुछ दिनों के लिए चुप कराया जा सके।

इस दौरान खुशबू के मोबाइल लोकेशन, बैंक पासबुक आदि की जांच करने का निर्णय लिया गया। हालांकि खुशबू की खोज के लिए सोनो पुलिस को खुशबू की हाथों लिखा 02 वर्ष पुराना एक प्रेम पत्र बरामद हु…

मानव श्रृंखला : बिहार के विश्व रिकॉर्ड में गिद्धौर ने दिया योगदान

विश्व की सबसे लंबी मानव श्रृंखला बनाकर इतिहास रचने के लिए आज पूरा बिहार एकजुट हुआ। इसमें गिद्धौर की धरती ने भी अपना योगदान दिया। आज सुबह से ही स्कूलों व बाजार में चहल-पहल देखी गई। गिद्धौर के लोग खुद को खुशनसीब मानकर इसमें योगदान देने को उत्सुक दिखे एवं जगह-जगह मानव श्रृंखला का निर्माण करने के लिए इकठ्ठा हुए।
एन एच - 333 पर बनी मानव श्रृंखला
गिद्धौर में मानव श्रृंखला के निर्माण में स्कूली बच्चे, शिक्षकगण, राजनितिक व सामाजिक कार्यकर्त्ता, जनप्रतिनिधि, ग्रामीण व विभिन्न तबके के लोग मुख्य सड़क एन एच - 333 पर एक दूसरे के हाथ में हाथ डाले खड़े हुए।
उत्साह, गर्व, मुस्कान और जय बिहार गिद्धौर की सड़क पर मानव श्रृंखला के निर्माण की शुरुआत होते ही लोगों के चेहरे पर मुस्कान, बच्चों के मन में उत्साह और महिलाओं के चेहरे पर गर्व साफ़ झलक रहा था। बच्चों द्वारा नशामुक्ति को लेकर विभिन्न नारे लगाये जा रहे थे। साथ ही जय बिहार और जय गिद्धौर के नारे से पूरा वातावरण गुंजायमान हो रहा था।
परिचालन पर रहा रोक
एन एच - 333 गिद्धौर से जमुई व गिद्धौर से झाझा होते हुए बड़े शहरों को जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग है। मानव श…

यहाँ जानें - जौहर करने वाली रानी पद्मावती का इतिहास

Gidhaur.com(विशेष) : पद्मावती को इतिहास में पद्मिनी नाम से भी संबोधित किया गया है। 12वी और 13वी सदी में दिल्ली के सिंहासन पर दिल्ली सल्तनत का राज था। सुल्तान ने अपनी शक्ति बढ़ाने के लिए कई बार मेवाड़ पर आक्रमण किया। इन आक्रमणों में से एक आक्रमण अलाउदीन खिलजी ने सुंदर रानी पद्मावती को पाने के लिए किया था। वरिष्ठ पत्रकार अनूप नारायण आप को बता रहे है पूरा इतिहास। रानी पद्मावती का बचपन और स्वयंवर में रतन सिंह से विवाह रानी पद्मावती के पिता का नाम गंधर्वसेन और माता का नाम चंपावती था रानी पद्मिनी के पिता गंधर्वसेन सिंहल प्रान्त के राजा थे। बचपन में पद्मावती के पास “हीरामणी” नाम का बोलता तोता हुआ करता था जिसके साथ उसने अपना अधिकतर समय बिताया था। रानी पद्मावती बचपन से ही बहुत सुंदर थी और बड़ी होने पर उसके पिता ने उसका स्वयंवर आयोजित किया। इस स्वयंवर में उसने सभी हिन्दू राजाओं और राजपूतों को बुलाया। एक छोटे प्रदेश का राजा मलखान सिंह भी उस स्वयंवर में आया था। राजा रावल रतन सिंह भी पहले से ही अपनी एक पत्नी नागमती होने के बावजूद स्वयंवर में गया था। प्राचीन समय में राजा एक से अधिक विवाह करते थे ताक…

ब्रिक्स यंग पार्लियामेंटेरियन समिट में शामिल होंगे सांसद चिराग

Gidhaur.com(न्यूज़ डेस्क) : लोक जनशक्ति पार्टी के केंद्रीय संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं जमुई लोकसभा से सांसद चिराग पासवान रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में होने वाले ब्रिक्स यंग पार्लियामेंटेरियन समिट में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। चिराग पासवान के साथ तीन और युवा सांसद इस समिट में देश की ओर से भाग ले रहें है। न केवल जमुई और बिहार के लिए बल्कि देश के लिए भी यह गौरव की बात है की युवा सांसद ब्रिक्स की सम्मेलन में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। जहाँ युवाओं की समस्याओं और उनके समाधान पर विस्तार से चर्चा होगी। इस सम्मेलन में भारत के अलावा ब्राजील, रूस, चीन एवं दक्षिण अफ्रीका के युवाओं प्रतिनिधियों के साथ युवाओं की भागदारी पर भी चर्चा होगी। चिराग पासवान इसके पहले संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके है और वहाँ भी इन्होंने युवाओं की भागदारी, उनकी समस्याएँ एंव उनके निदान पर विस्तृत चर्चा की थी। चिराग पासवान के इस समिट में देश की ओर से प्रतिनिधित्व करने से बिहार के ही नही देश के युवाओं को अब यह लगने लगा है कि अन्तराष्ट्रीय मंच पर भी हमारी समस्याओ के समाधान हेतु चर्चा होगी और …