Breaking News

मधुमेह के कम से कम 30% मरीजों को किडनी रोग की संभावना : डॉ. पंकज हंस


Gidhaur.com  -  पटना में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में राज्य के प्रसिद्ध किडनी रोग विशेषज्ञ डॉ. पंकज हंस ने कहा कि 17% भारतीयों को किडनी से सम्बंधित पुरानी बीमारी है। यह आंकड़ा हार्वर्ड मेडिकल स्कूल द्वारा पूरे देश में 13 चिकित्सा केन्द्रों के साथ हुए एक अध्ययन में सामने आया उपरोक्त लोगों में से एक तिहाई रोगी इस बीमारी के उन्नत चरण में हैं। भारत में डायबिटीज़ वाले 60 मिलियन लोग हैं, जो धरती पर किसी भी अन्य देश से ज्यादा हैं। दुर्भाग्यवश, उनमें से अधिकांश बीमारी का निदान या इलाज नहीं करा रहे हैं।  मधुमेह के कम से कम 30% मरीजों को चीनी बीमारी की वजह से क्रोनिक किडनी रोग होने की संभावना है। गुर्दे की विफलता (तकनीकी रूप से क्रोनिक किडनी रोग चरण 5 या सीकेडी -5) के आखिरी चरण वाले लोगों को डायलिसिस और/या किडनी प्रत्यारोपण की आवश्यकता होती है, जो कि जीवन को बनाए रखने के उपचार के रूप में होती है। ऐसे 40% डायबिटीज़ रोगियों को इस वजह से किडनी फेल होने की समस्या विकसित होती है। दो लाख नए रोगियों को भारत में हर साल डायलिसिस उपचार की आवश्यकता होती है, लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण वास्तविकता यह है कि उनमें से केवल 10 से 20% उचित उपचार प्राप्त करते हैं। शेष इसके निदान या उचित उपचार जारी रखने में असमर्थ हैं।

डॉ. पंकज हंस ने बताया कि आंकड़ों के अनुसार वर्तमान में भारत में डायलिसिस पर करीब 20 लाख लोग मौजूद हो सकते हैं। लेकिन वास्तविकता यह है कि वहां केवल एक लाख हैं। बाकी गैर-निदान और गैर-उपचार के कारण वंचित हो गए हैं। अंतिम चरण में पुराने गुर्दे की विफलता के अधिकांश रोगियों का निदान किया जाता है। यद्यपि उचित आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन यह स्वीकार किया जाता है कि लगभग 50% मरीज केवल अंतिम चरण में नेफ्रोलॉजिस्ट (किडनी विशेषज्ञ) से दिखाते हैं। भारत में प्रति मिलियन आबादी में 0.4 डायलिसिस केंद्र हैं। इसके विपरीत, जापान में प्रति लाख आबादी में 20 डायलिसिस केंद्र हैं। भारत में प्रति वर्ष केवल चार हजार किडनी प्रत्यारोपण किए जाते हैं। एक चौथाई भारत की आबादी के साथ संयुक्त राष्ट्र  प्रति वर्ष सोलह हजार ऐसे आपरेशन करता है। गुर्दे की विफलता किसी भी आयु वर्ग के लोगों को प्रभावित कर सकती है। जबकि पश्चिम में, अधिकांश रोगी बुजुर्ग हैं। भारत में किडनी की विफलता वाले रोगी युवा वर्ग के हैं और यह मुख्य रूप से कामकाजी आबादी को प्रभावित करता है।

(अनूप नारायण)
gidhaur.com    |     23/08/2017, बुधवार