बड़ी खबरें

गिद्धौर का सेवा पंचायत : कुएं के दूषित जल से बुझ रही महादलितों की प्यास

News Desk | Abhishek Kumar Jha】:-

एक तरफ जहां देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कोरोना वायरस से बचाव को लेकर बचाव, सावधानी के साथ स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की अपील कर रहे हैं, वहीं गिद्धौर प्रखंड क्षेत्र का एक पंचायत ऐसा है जहां तकरीबन 25 परिवार के लोग कुएँ का दूषित पानी पीने को मजबूर हैं।


मामला सेवा पंचायत के 4 न. वार्ड का है जहां कुएँ के दूषित जल से महादलित अपनी प्यास बुझाने को विवश हैं। इस वार्ड में तकरीबन 25 परिवार महादलित वर्ग के हैं जिन्हें आज तक शुद्ध पेयजल उनके कण्ठ को तृप्त नहीं कर सकी है। अब इसे दुर्भाग्य कहें या उदासीनता , ये आलम विगत कई वर्षों ये ग्रामीण झेलते आ रहे हैं, बावजूद इसके इनकी समस्या का समाधान होता नहीं दिख रहा।
यहां गौरतलब है कि बिहार सरकार द्वारा सात निश्चय के तहत हर घर नल जल पहुंचने का दम्भ भरती है, बावजूद इसके बढ़ते तापमान में इन महादलितों को हों रहे शुद्ध पेय की किल्लत से ये सरकारी दावे फिसड्डी साबित हो रहे हैं।


- बोले ग्रामीण, उदासीन हैं जनप्रतिनिधियों के रवैया -

जनप्रतिनिधियों के प्रति रोष व्यक्त करते हुए ग्रामीण चन्दन दास, नवीन कुमार, प्रभु दास, मुकेश दास, उपेन्द्र रविदास, राजन कुमार, सागर दास, सुरेन्द्र दास समेत दर्जनों पुरुष व महिला ग्रामीण बताते हैं कि पेयजल समस्या को लेकर कई बार जनप्रतिनिधियों के पास शिकायत की गई है, पर अब तक सुनवाई नहीं हुई। सरकार का नल जल योजना भी इस वार्ड में दम तोड़ चुकी है। कोरोना के इस संकट में एक तो महामारी ऊपर से ये दूषित जल ने जिंदगी को बुरी तरह से प्रभावित कर रखा है। कोरोना से बचे भी तो ये दूषित जल अन्य बीमारियों के चपेट में लेलेगा। वहीं, कुछ शिक्षित ग्रामीण बताते हैं कि कुँए के पानी में कभी भी सरकारी स्तर पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव नहीं किया जाता, जिससे पानी की गंदगी पानी मे ही रहती है। उन्होंने बताया कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों को इन सभी चीजों की जानकारी है, बावजूद इसके महादलितों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।



- कहते हैं प्रतिनिधि -

इस संदर्भ में पूछे जाने पर सेवा ग्राम पंचायत राज के मुखिया परमेश्वर पंडित ने बताया कि पञ्चायत में पीएचईडी के द्वारा जलमीनार का कार्य किया जा रहा है। पेयजल के लिए लोगों को चापाकल भी मुहैया कराया गया है।

 *- कहते है पीएचईडी के जेई -*

इस सन्दर्भ में पूछे जाने पर पीएचईडी के जेई रंजीत कुमार कहते हैं कि पूरे प्रखंड में जलमीनार का काम युद्धस्तर पर जारी है। सेवा पंचायत में भी शीघ्र ही जलापूर्ति की जाएगी।

No comments