Breaking News

जमुई : यहां रसूखदारों को नजराना देने के बाद मिलती है शौचालय निर्माण की राशि

न्यूज़ डेस्क (चंद्रशेखर सिंह) Edited by- अभिषेक:-

जहां एक ओर सरकार शौचालय निर्माण के लिए देश भर में प्रचार -प्रसार काफी जोर से कर रही है, वहीं दूसरी ओर अधिकारियों की उदासीन और कर्मियों की मनमानी इस कदर है कि शौचालय निर्माण करने के बाद सारे कागजात दिये जाने के बाद भी कई महीनों  बीत जाने के बाद भी प्रोत्साहन राशि नही भेजा जा रहा है। नियमतः शौचालय बनाने के बाद सीधे उनके कागजात के जांचोपरांत राशि लाभुक के खाता में भेजना है। लेकिन लाभुक को प्रोत्साहन राशि  भेजने के बदले कार्यालय के कर्मियों द्वारा सुविधा शुल्क की मांग की जाती है। ये नजराना नही देने वाले को शौचालय निर्माण की राशि खाते में नहीं मिलती।


अलीगंज प्रखंड क्षेत्र के अलावे जमुई जिले भर के विभिन्न इलाकों का भी आलम है। लाभुक सुमित्रा देवी, कविता देवी, श्यामल यादव, सुरेन्द्र प्रसाद, राजेंद्र कुमार, प्रेमन माझी , मीठू पासवान सहित दर्जनों लोगो ने बताया कि शौचालय सात से आठ महीनों से भी अधिक दिन हो गये हैं, लेकिन पैसा नही भेजा रहा। हमसे पीछे शौचालय  बनाया, उसको दो हजार देने पर बिचौलिया के माध्यम से राशि भेज दिया गया है। बिना जेब गर्म किये यहां कोई कुछ सुनने को तैयार नहीं।
जन अधिकार पार्टी के प्रदेश महासचिव सह प्रवक्ता  प्रेमचंदसिंह, महेश सिंह राणा ने बताया कि शौचालय निर्माण के बाद भी अलीगंज प्रखंड के दर्जनों गांव के लाभुको को राशि नही मिल पाया है। उन्होंने बताया कि सरकार की प्रोत्साहन राशि में बिचौलिया हावी है, और एक ही शौचालय पर नाम बदलकर दो से तीन बार राशी की भेजी गई है। शौचालय बिना निर्माण करने वाले को भी प्रोत्साहन राशि भेजा गया है।जिसकी जांच जिलाधिकारी से किया है। नेता द्वय ने अलीगंज प्रखंड में शौचालय प्रोत्साहन की राशि मिलने वाले लाभुको की जांच कराने की मांग किया है। उन्होंने कहा कि अलीगंज प्रखंड में अगर सच्चाई पूर्वक इसकी जांच कराई जाय तो एक बहुत बड़ा शौचालय राशि घोटाला का पोल खुल जायेगा और इसमे संलिप्त रसूखदार बेपर्दा हो सकेंगे।
इस बाबत पूछे जाने पर उप विकास आयुक्त अरूण कुमार ठाकुर ने कहा कि मामले की शिकायत मिली है। जांचकर दोषियो के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।