Breaking News

गिद्धौर : राष्ट्रीय छात्र दिवस के रूप में मनाया गया ABVP का स्थापना दिवस

न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】:-

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के स्थापना दिवस पर +2 एमसीभी गिद्धौर एवं रतनपुर पंचायत भवन में गिद्धौर इकाई द्वारा संगोष्ठी का आयोजन कर राष्ट्रीय छात्र दिवस मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता नगर सह मंत्री सोनू कुमार ने की। संगोठी में उपस्थित सैंकड़ों छात्र-छात्राओं के बीच अभाविप का बैच वितरण कर संगठन के बारे में विस्तृत जानकारियां साझा की गई।


संगोष्ठी में छात्रों को संबोधित करते हुए जिला संयोजक निहाल वर्मा ने कहा कि विद्यार्थी परिषद् एक भारतीय छात्र संगठन है। इसकी स्थापना 9 जुलाई 1949 ई0 को की गयी थी। विद्यार्थी परिषद का नारा है - ज्ञान, शील, एकता। आज विद्यार्थी परिषद् न केवल भारत का बल्कि विश्व का सबसे बड़ा छात्र-संगठन है‌।
यह संगठन छात्रों से प्रारंभ हो, छात्रों की समस्याओं के निवारण हेतु एक एकत्रित छात्र शक्ति का परिचायक है। विद्यार्थी परिषद् के अनुसार, छात्रशक्ति ही राष्ट्रशक्ति होती है। विद्यार्थी परिषद् का मूल उद्देश्य राष्ट्रीय पुनर्निर्माण है। स्थापना काल से लगातार 70 वर्षो से परिषद ने छात्र हित और राष्ट्र हित से जुड़े प्रश्नों को प्रमुखता से उठाया है और देशव्यापी आंदोलनों का नेतृत्व किया है। 


इस  क्रम में निहाल वर्मा ने अभाविप की उपलब्धियाँ गिनाते हुए कहा कि परिषद् ने छात्र-हित से लेकर भारत के व्यापक हित से सम्बद्ध समस्याओं की ओर बार-बार ध्यान दिलाया है। बांग्लादेशी अवैध घुसपैठ और कश्मीर से धारा 370 को हटाने के लिए विद्यार्थी परिषद् समय-समय पर आन्दोलन चलाता रहा है। बांग्लादेश को तीन बीघा भूमि देने के विरुद्ध परिषद् ने ऐतिहासिक सत्याग्रह किया था।
 वहीं संगोष्ठी में मुख्य रूप से भाग ले रहे नगर मंत्री विकास यादव ने कहा कि एबीवीपी  शिक्षा के व्यवसायीकरण के खिलाफ बार-बार आवाज उठाती रही है। इसके अतिरिक्त अलगाववाद, अल्पसंख्यक तुष्टीकरण, आतंकवाद और भ्रष्टाचार जैसी राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के खिलाफ भी एबीवीपी लगातार संघर्षरत रहे हैं।


एबीवीपी के स्थापना दिवस पर अपनी बात रखते हुए पंचायत अध्यक्ष सोनू तिवारी ने कहा कि बिहार में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नाम सबसे ज्यादा रक्तदान करने का रिकॉर्ड है। इसके अलावा वैसे निर्धन मेधावी छात्र, जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए निजी कोचिंग संस्थानों में नहीं जा सकते, उनके लिये स्वामी विवेकानंद निःशुल्क शिक्षा शिविर का आयोजन किया जाता है। 
इस एकदिवसीय कार्यक्रम की सफलता को लेकर आशुतोष वैभव, रूपेश यादव, शुभम सिंह, अक्षय कुमार, छोटू कुमार सहित दर्जनों अभाविप कार्यकर्ता ने सक्रिय भूमिका निभाई।