Breaking News

जमुई जिले के क्रिटिकल पंचायतों में लगेंगे सरकारी हैंडपम्प, पेयजल समस्या होगी दूर


न्यूज़ डेस्क | अभिषेक कुमार झा】:-
पेयजल संकट के कारण सुर्खियों में रहने वाले जमुई जिले के दिन बहुरेंगे, कारण ये कि सूबे भर में बनने वाला जल सरंक्षण योजना का लाभ जमुई जिले को भी मिलने जा रहा है। इस योजना के तहत सूबे भर में मौजूद जल संपदा की मॉनिटरिंग की जाएगी। पीएचईडी मंत्री विनोद नारायण झा ने इस योजना को लेकर बिहार के 17 जिलों में 2100 हैंडपम्प लगाने का निर्देश विभाग के अधिकारियों को दिया है।


जल संरक्षण योजना का लाभ लेने वाले में बिहार के इन 17 जिले में जमुई भी नामित है। जमुई के अलावे, लखीसराय, मुंगेर, बांका, शेखपुरा, नालन्दा, गया, कैमूर, भोजपुर, भागलपुर, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, रोहतास, औरंगाबाद, वैशाली तथा नवादा जिला भी इस योजना का लाभ लेने के सूची में शामिल है।इन जिलों के क्रिटिकल पंचायतों को चिन्हित कर वहां सरकारी हैंडपंप लगाए जाएंगे।
विभागीय सूत्रों की यदि मानें तो, इस योजना के लिए वित्तीय स्वीकृति भी मिल गयी है। विभाग द्वारा बिहार के अन्य जिलों में हैंडपम्प लगाने का कार्य जारी है। जमुई जिले के किन चिन्हित क्रिटिकल पंचायतों में सरकारी हैंडपम्प लगेंगे, ये प्रशासनिक निर्णय पर निर्भर करता है। इस सरकारी योजना के तहत हैंडपम्प लगाने में विभाग गहराई का विशेष ध्यान रखेगी। लगाए गए हैंडपंप का जियोटेगिंग किया जाएगा, जिसमे हैंडपंप से जुड़ी सभी जानकारियां अंकित रहेंगी। इस योजना को वास्तविकता का रूप देने के लिए विभाग ने इस ओर अपना कदम बढ़ा दिया है जिसका सकारात्मक परिणाम जून माह के अंतिम सप्ताह में देखने को मिलेगा।