Breaking News

अलीगंज : प्रसूता की मौत पर थाना में मामला दर्ज, घेरे में हैं आरोग्य सेवा क्लिनिक के संचालक


[अलीगंज | चंद्र शेखर सिंह] :-
चंद्रदीप थाना क्षेत्र के अलीगंज बाजार मुख्य मार्ग स्थित आरोग्य सेवा कलीनिक संचालक सह डॉक्टर एस. कुमार पर मृतक के पति ने चिकित्सक पर जानबुझकर लापरवाही बरतने व गलत सुई देने के कारण प्रसुता की मौत का मामला दर्ज कराया है। चंद्रदीप थाना  अध्यक्ष राजीव कुमार ने बताया कि कांड  संख्या 53/19 दर्ज पुलिस मामले की छानबीन कर आरोपी को  गिरफ्तार करने मे जुट गई  है।


बता दें कि मृतक रंजु कुमारी  गर्भवती थी और अचानक दर्द की शिकायत होने पर आरोगय सेवा कलीनिक में भर्ती कराया। जांच करने के बाद चिकित्सक ने रात 10 बजे क्लिनिक पर बुलाया और गर्भवती महिला अपने परिजनों के साथ डाक्टर के पास गई। परिजनों ने बताया कि एक सुई डाक्टर ने लगवाई और आधे घंटे बाद प्रसुता को ऑपरेशन थियेटर में ले गया। किसी परिजन को जाने की इजाजत ऑपरेशन रूम में नही दी गई। फिर परिजनों को चिकित्सक ने ऑपरेशन करने की बात कहीऔर उसके एवज में 60,000 रूपया जमा करने को कहा गया।प्रसुता के परिजनों ने ऑपरेशन करने की बात पर थोड़ी परेशान हो गये। फिर किसी तरह मोटी रकम जमा करवाया गया। लगभग 11बजे रात अचानक चिकित्सक ऑपरेशन थियेटर से प्रसुता को अपने ऐमबुलेंस में ले जाकर परिजनों को कुछ बताये बिना नवादा ले चलने लगे। जब परिजन ने प्रसुता की स्थिति की जानकारी चाही तो चिकित्सक ने स्थिति चिन्ताजनक बताकर नवादा जाने को कहा। प्रसुता की पति अभिमन्यु गुप्ता ने बताया कि हम लोगों को शंका उसी समय हो गया था। जब कुछ बताये बिना नवादा ले जाने की तैयारी चिकित्सक ने कर दी थी। उन्होंने ने बताया कि डॉक्टर एस कुमार  ने कहा कि मरीज बेहोश है। ऑक्सीजन लगा दिये है।जल्दी  मरीज को ले जाईये । नवादा के एक नीजी कलीनिक के पास मरीज को उतारकर ऐमबुलेंस लेकर चिकित्सक के सहयोगी रफु चक्कर हो गया। और नवादा के चिकित्सक ने मरीज देखते ही कहा कि प्रसुता की मौत घंटों पहले हो गया है।
बता दे कि अलीगंज बाजार में बिना डिग्री धारी चिकित्सक के द्वारा नामी चिकित्सक की बोर्ड लगाकर झोलाछाप के द्वारा ही बडे-बड़े ऑपरेशन कर मोटी रकम की उगाही की जा रही है।
सूत्र बताते हैं कि झोलाछाप चिकित्सक सिविल सर्जन तक पहुंच रख ,अधिकारियों की मिलीभगत से ही बिना निबंधन के  एवं बिना डिग्री के सीजेरियन ऑपरेशन  किया जा रहा है।अलीगंज में आधा दर्जन क्लिनिक संचालित है।और जानकारी व शिकायत के बाद भी  जिला के वरीय अधिकारी मौन धारण किये हैं ।