Breaking News

रतनपुर का यह दुर्गा मंदिर बना आस्था का केंद्र, सात दशकों से हो रही है पूजा

रतनपुर (गिद्धौर) | भीमराज】:-

सम्पूर्ण जिले में चैत्र नवरात्र की धूम है। हर ओर भक्ति की रसधारा बहती दिख रही है। इसी क्रम में गिद्धौर प्रखंड अंतर्गत रतनपुर पंचायत स्थित दुर्गा मंदिर में चैत्रीय दुर्गा मेला का आयोजन धूमधाम से किया जा रहा है।

चैत्र नवरात्र के नवमी एवं दशमी तिथि को यहां भव्य मेले का आयोजन किया जाता है, जिसका आनंद लेने प्रखंड क्षेत्र के हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को मिलती है।
बता दें, रतनपुर-जमुई मुख्यमार्ग पर स्थित दुर्गा मंदिर स्थानीय लोगों के लिए आस्था का केंद्र है। इनकी मान्यता है यहां आने वाले भक्तों व श्रद्धालुओं की मुराद माता पूरी करती हैं।
रतनपुर पंचायत के वर्तमान मुखिया राजेश सिंह इस संदर्भ में विस्तृत जानकारी देते हुए बताते हैं कि पिछले 72 वर्षों से चैती दुर्गा माता की पूजा अर्चना होती आ रही है। यह प्राचीन मंदिर इलाके भर के लोगों के लिए आस्था और विश्वास का केंद्र है।मुखिया श्री सिंह ने बताया कि नवमी को माता की प्राण प्रतिष्ठा की शुरुआत होती है। मंदिर एवं आसपास जगहों  में कलरफुल लाइट आदि से सजाया जाता है। मिठाई, झूले, चाट एवं खिलौनों की दुकाने इस मेला की शोभा बढ़ाते नज़र आती हैं। लगभग 42 वर्षों से माता की प्रतिमा का निर्माण सुदामा पुर निवासी मूर्तिकार नुनू देव रविदास कर रहे हैं।

दुर्गा पूजा सह काली पूजा समिति के गठन में अध्यक्ष कन्हैया जी, सचिव डॉ. जागेश्वर रजक, कोषाध्यक्ष गोपाल केशरी तथा वर्तमान मुखिया, रतनपुर गांव के वार्ड सदस्यों एवं  ग्रामीणों के द्वारा सहयोग राशि उपलब्ध करके इस  दुर्गा पूजा मेला की आयोजन धूमधाम से की जाती है।
शनिवार को रतनपुर का यह ऐतिहासिक मंदिर मे दुर्गा के जयकारे से गूंजता रहा।
है। महिलाओं के धार्मिक गीतों की प्रस्तुति से मंदिर परिसर भक्तिमय हो जाता है। वैदिक मंत्रोचार के साथ माता की पूजा धूमधाम से की जाती है। दशमी को पूरे भक्ति एवं श्रद्धा के साथ माता की प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है।