Breaking News

लोकसभा चुनाव : खगड़िया में एनडीए व महागठबंधन के बीच सीधा मुकाबला

कौन बनेगा कुरुक्षेत्र का गाजी?

पटना/सेंट्रल डेस्क [अनूप नारायण] :

बिहार के खगड़िया लोकसभा क्षेत्र से नई पार्टी का गठन कर महागठबंधन के तहत अपनी किस्मत आजमाने उतरे वीआईपी पार्टी के प्रमुख मुकेश साहनी के सामने निवर्तमान सांसद महबूब अली कैसर है. जिनपर लोजपा ने पुनः दांव लगाया है.

यादव और मुसलमान मतों के सहारे अपनी नाव पार करने की तैयारी में लगे मुकेश साहनी को मोदी मैजिक के बवंडर का सामना करना है. खगड़िया लोकसभा क्षेत्र बिहार के कुल 40 क्षेत्रों में एक है. चुनाव आयोग के 2009 के एक आंकड़े के मुताबिक यहां कुल वोटरों की संख्या 1,342,970 है. जिनमें 630,898 महिला और 712,072 पुरुष मतदाता हैं. इस सीट पर अधिकांश बार जनता दल का कब्जा रहा है.

बाद में यही पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) हो गई, जिसने 1999 में जीत दर्ज की. उससे पहले 1989, 1991 और 1996 में तीन बार लगातार जनता दल ने इस सीट पर जीत हासिल की थी. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चौधरी महबूब अली कैसर विजयी रहे, जिन्होंने आरजेडी की प्रत्याशी कृष्ण कुमारी यादव को हराया.

खगड़िया का समीकरण
जनता दल और जदयू की पकड़ इस सीट पर भले मजबूत रही हो लेकिन पिछले कुछ वर्षों में आरजेडी भी यहां तेजी से उभरी है. 2004 के चुनाव में आरजेडी ने यहां अच्छी जीत हासिल की और इस बार भी एलजेपी को टक्कर देने की स्थिति में नजर आ रही है. खगड़िया मुंगेर डिवीजन में पड़ता है जिसका जिला मुख्यालय खगड़िया सिटी में है. 2011 की जनगणना के मुताबिक खगड़िया बिहार का सबसे कम आबादी वाला जिला है जहां 1,276,677 लोग रहते हैं.

2009 और 2014 के चुनाव का ब्योरा
2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से एलजेपी उम्मीदवार चौधरी महबूब अली कैसर ने जीत दर्ज की. उन्होंने आरजेडी प्रत्याशी कृष्णा कुमारी यादव को हराया. कैसर को जहां 313806 वोट मिले तो यादव को 237803 वोट. वोट प्रतिशत देखें तो कैसर को जहां 35.01 प्रतिशत मत हासिल हुए तो कृष्णा यादव को 26.53 प्रतिशत वोट मिले. इस सीट पर तीसरे स्थान पर नोटा रहा जिसके तहत 23868 वोट दर्ज हुए. कुल वोटों का यह 2.66 प्रतिशत हिस्सा था. वोट स्वींग देखें तो इस सीट पर जेडीयू के वोट एलजेपी के खाते में गए और एलजेपी आरजेडी के खिलाफ आसानी से जीत गई. 2009 के चुनाव में जदयू के दिनेश चंद्र यादव जीते थे, वहीं 2004 के चुनाव में भी जदयू जीती थी लेकिन उम्मीदवार थे रविंद्र कुमार राणा. दिनेश चंद्र को 266964 वोट मिले थे, जबकि राणा को 128209 वोट.

खगड़िया की विधानसभी सीटें
इस संसदीय क्षेत्र में छह विधानसभा सीटें हैं. इनके नाम हैं - सिमरी बख्तियारपुर, खगड़िया, हसनपुर, बेल्दउर, अलौली (एससी) और परबत्ता. इनमें अलौली विधानसभा सीट एससी के लिए आरक्षित है.