Breaking News

गोवा : पंचतत्व में विलीन हुए मनोहर पर्रिकर, अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब


(न्यूज़ डेस्क | गुड्डु वर्णवाल ) :-
मनोहर गोपालकृष्णा प्रभु पर्रिकर राजनीति के पन्ने का ऐसा नाम जो अब अब हर लोगों की जुबान पर है| हम बात कर रहे है गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की जिन्होंने अपने निजी आवास पर रविवार को अंतिम सांस ली|
एडवांस्ड पैंक्रियाटिक कैंसर से ग्रस्त श्री पर्रिकर ने गोवा, मुंबई, दिल्ली और न्यूयॉर्क के अस्पतालों में इलाज कराया| पर्रिकर लंबे समय से कैंसर को हराने में जुटे हुए थे लेकिन रविवार को वो इस बीमारी से लड़ते-लड़ते हार गए|
मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद  कैंसर ने उनको उनकी पत्नी से भी जुदा कर दिया। मनोहर पर्रिकर अपने पीछे बेटे-बहू के अलावा एक पोते को छोड़कर गए है।  13 दिसबंर 1955 को जन्में मनोहर पर्रिकर ने 63 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया| 


सोमवार की शाम पंचतत्व में विलीन हो गए| मनोहर पर्रिकर को उनके बेटे उत्पल ने मुखाग्नि दी| उनकी अंतिम यात्रा में भारी जनसैलाब उमड़ा. उनको अंतिम विदाई देने के लिए हजारों लोग पहुंचे| उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया|

गोपालकृष्णा एवं राधाबाई के पुत्र गोवा का मुख्यमंत्री बनने वाले बीजेपी के पहले नेता पर्रिकर ने  2000-05 तक और फिर 2012-14 तक राज्य का नेतृत्व किया, इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में 2014 में रक्षामंत्री की बागडोर संभाली थी|