Breaking News

सोनो : माघी पूर्णिमा में मां ब्रह्मादेवी स्थान में श्रद्धालुओं का उमड़ा जनसैलाब

सोनो (पंकज कुमार सिंह) :

प्रखंड मुख्यालय से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर बरनार नदी के किनारे अवस्थित मां ब्रह्मा देवी का स्थान सोनो, झाझा, खैरा, चकाई प्रखंड वासियों के लिए आस्था का केंद्र रहा. यूं तो यहां प्रत्येक दिन पंडा जी एवं पुजारियों के द्वारा विधिवत पूजा एवं श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है.

लेकिन वर्ष में दो बार इस जगह पर मेले का आयोजन होता है. खासकर माघी पूर्णिमा की बात जेहन में आते ही लोग बीबी माय मेला की याद ताजा हो जाती है.
यूं तो मेले में आने वाले लोग सर्वप्रथम ब्रह्म देवी स्थान के प्रांगण से गुजरती सरिता में गोते लगाकर सिरनी और नैवेद्य चढ़ाते हैं. तत्पश्चात मेले के परंपरागत मिठाईयां का स्वाद भी लेने से नहीं चूकते.

मुख्य पुजारी उपेंद्र पंडा बताते हैं कालांतर में आसपास के जमींदार एवं रियासतदारों ने मां ब्रह्मा देवी बीवी माई को अपना कुल देवी के रूप में अपने घरों में स्थापित किए थे जो आज तक परंपरा अनवरत जारी है.
बमबम पांडे बताते हैं कुलदेवी पूजन हेतु सोनो, बलथर, केंदुआ, देव पहाड़ी, गरसंडा, मांगोबंदर के लोगों के घर में किसी भी उत्सव की पहली  शुरुआत यहीं से होती है. इनकी महिमा आसपास के सैकड़ों गांव में सर्वविदित है. जो भी व्यक्ति या श्रद्धालु श्रद्धा से मन इच्छा कामना पूर्ति हेतु जाता है, मैया उनकी इच्छा अवश्य पूरी करती हैं.

इस मंदिर में परंपरागत देखरेख करने की जिम्मेवारी सोनो बाजार के पंडा जी के अधिनस्थ है. हालांकि बाजार के ब्राह्मण टोली के युवाओं की सक्रियता विधि व्यवस्था संचालन में भरपूर सहयोग करती है. जिसमें बम बम पांडेय, अजय पांडेय, रंजीत पांडेय, अजीत पांडेय मुख्य रूप से हैं.